Select Page

पैदल चलने के फायदे – benefits of walking in hindi

पैदल चलने के फायदे – benefits of walking in hindi

पैदल चलना हमें कई तरह के हेल्थ बेनेफिट्स देने में मदद करता है. फिट रहने के लिए सभी आयु के लोगों को इसका लाभ मिलता है. साथ ही इससे कुछ विशेष रोगों से बचाव और जीवन की गुणवत्ता बेहतर होती है.

वाल्क करना या कहें पैदल चलना बहुत ही आसानी से अपने रोजमर्रा के जीवन में शामिल किया जा सकता है. इसके लिए जरूरत है तो बस जूतों की, तो आज इस लेख में हम आपको बताने वाले है पैदल चलने के फायदे –

पैदल चलने के फायदे – benefits of walking in hindi

ब्लड शुगर लेवल कम होने

  • भोजन करने के बाद हल्की वाल्क करने से लाभ मिलता है.
  • छोटे रिसर्च में देखने को मिला है कि ब्रेकफास्ट, लंच, डिनर करने के बाद 15 मिनट तक वाल्क करने से ब्लड शुगर लेवल बेहतर होते है.
  • इसे भोजन के बाद वर्कआउट के रूप में लें जिससे खुद को फिट रखने में मदद मिलें.

एनर्जी बूस्ट करने

  • थकान होने पर वाल्क करने जाना कॉफी की तुलना में अधिक प्रभावी होता है.
  • वाल्क करने से शरीर में ऑक्सीजन का फ्लो बढ़ जाता है.
  • जिससे शरीर में एनर्जी के लेवल बढ़ जाते है.

कैलोरी बर्न करने

  • इसके लिए फास्ट वाल्क करने की जरूरत होती है.
  • साथ ही ज्यादा दूरी तय करना जरूरी होती है.
  • किसी चढ़ाई जैसे पहाड़ आदि पर चढ़ने से ज्यादा कैलोरी बर्न होती है.
  • आपका वजन इसमें एक अहम फैक्टर है.
  • तेज चले और ज्यादा दूरी कवर करें जिससे पसीना निकले और कैलोरी बर्न हो.

मूड बेहतर करने

  • इससे मानसिक हेल्थ में फायदा होता है.
  • रिसर्च के अनुसार, इससे घबराहट, डिप्रेशन और नकारात्मक मूड ठीक होते है.
  • वाल्क करने से आत्मविश्वास बेहतर होता है.
  • बेनेफिट्स का लाभ उठाने के लिए रोजाना कम से कम 30 मिनट तेज वाल्क करें.
  • तेज वाल्क हफ्ते में कम से कम तीन बार करें.

जोड़ों के दर्द में राहत

  • वाल्क करने से घुटने और हिप्स के जोड़ों में दर्द में आराम मिलता है.
  • ऐसा इसलिए क्योंकि इससे घुटनों की मांसपेशियों को लूब्रिकेट और मजबूती मिलती है.
  • अर्थेराइटिस वाले रोगियों को वाल्क करने से लाभ मिलता है.
  • गठिया रोगियों को वाल्क करनी चाहिए.

पैरो को मजबूत करने

  • वाल्क करने से पैरों की मांसपेशियां मजबूत होती है.
  • ताकत बढ़ाने के लिए पहाड़ी एरिया या ट्रेड मील पर इंक्लाइन करके वाल्क करें.
  • इसके अलावा लिफ्ट के स्थान पर सीढियों का इस्तेमाल कर सकते है.
  • जॉगिंग या साईकल चलाना आदि किया जा सकता है.
  • पैरों का ताकत बढ़ाने के लिए लंजेस, स्कवाट्स, लेग कर्ल आदि किए जा सकते है.

हार्ट को मजबूत करने

  • रोजाना कम से कम 30 मिनट वाल्क करने और हफ्ते में 5 दिन वाल्क करना चाहिए.
  • इससे हार्ट रोगों का रिस्क कम हो जाता है.
  • साथ ही रोजाना अपनी वाल्क करने की दूरी को बढ़ाने से यह रिस्क अधिक कम हो जाता है.

इम्यून बूस्ट करने

  • वाल्क करने से सर्दी खांसी का रिस्क कम होता है.
  • अध्ययनों में देखने को मिला है कि वाल्क करने वाले लोगों में सर्दी खांसी की समस्या कम देखने को मिली है.
  • ठंडे मौसम में रहने वाले लोगों घर में ट्रेड मील आदि पर वाल्क कर लाभ उठा सकते है.

वाल्क करते समय सुरक्षित रहने के टिप्स

  • पार्क आदि में वाल्क करें.
  • वाल्क शुरू करने से पहले और बाद में खूब सारा पानी पीएं.
  • ढीले कपड़े पहनें.
  • आरामदायक कपड़े पहने.
  • धूप से बचने के लिए सनस्क्रिन लगाई जा सकती है.
  • अच्छे जूते पहने.

शुरू कैसे करें

  • चलना शुरू करने के लिए, आपको बस चलने वाले जूतों की एक जोड़ी की आवश्यकता होगी.
  • अपने घर के पास एक पैदल मार्ग चुनें.
  • आप अपने साथ चलने और आपको जवाबदेह ठहराने के लिए किसी दोस्त या परिवार के सदस्य को भर्ती कर सकते हैं.
  • दफ्तर आदि में सीढियों का प्रयोग कर सकते है.
  • बस, ट्रेन आदि से सफर करने पर चलना हो जाता है.
  • दफ्तर गाड़ी से जाने पर कार को थोड़ा दूर पार्क करें और वाल्क कर सकते है.

अंत में

चलना सभी उम्र और फिटनेस के स्तर के लोगों के लिए दैनिक अनुशंसित व्यायाम को पूरा कर सकता है. एक पैदल मार्ग और दैनिक कदम लक्ष्य चुनें जो आपकी आयु और फिटनेस स्तर के लिए उपयुक्त है. चोट से बचने के लिए चलने से पहले गर्म और ठंडा करें. हमेशा एक नया फिटनेस रूटीन शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर से बात करें. (जानें – दौड़ने के कारण होने वाली इंजरी)