आज इस लेख में आप जानेंगे प्लेटलेट काउंट कैसे बढ़ाएं – खाएं जाने वाले फ़ूड्स, किन चीज़ों से बचें, सप्लीमेंट, लो प्लेटलेट काउंट के कारण, प्लेटलेट काउंट कम होने के संकेत –

प्लेटलेट काउंट कैसे बढाएं – how to increase platelet count in hindi

प्लेटलेट काउंट बढ़ाने वाले फ़ूड्स

  • कुछ विटामिन और मिनरलों में उच्च फ़ूड्स आपके शरीर को आपके रक्त में प्लेटलेट्स बनाने और बनाए रखने में मदद कर सकते हैं.
  • जबकि इनमें से कई पोषक तत्व सप्लीमेंट रूप में उपलब्ध हैं, लेकिन इन्हें फ़ूड्स से प्राप्त करने का प्रयास सबसे बेहतर माना जाता हैं.
  • अच्छे स्वास्थ के लिए हेल्दी भोजन जरूरी है.

आयरन

  • आयरन आपके शरीर की स्वस्थ रक्त कोशिकाओं के उत्पादन की क्षमता के लिए आवश्यक है.
  • एक अध्ययन में यह भी देखने को मिला है कि आयरन की कमी के कारण अनेमिया वाले लोगों में यह प्लेटलेट काउंट को भी बढ़ाता है.
  • आयरन फ़ूड्स में कद्दू के बीज, दाले आदि होते है.

विटामिन बी12

  • हमारे शरीर में विटामिन बी12 ब्लड सेल्स को हेल्दी रखने में मदद करता है.
  • विटामिन बी12 की कमी का सीधा लिंक लो प्लेटलेट काउंट से होता है.
  • यह मांसाहारी भोजन से प्राप्त होता है जबकि यह दूध से बने प्रोडक्ट और चीज़ में भी पाया जाता है.

विटामिन सी

  • विटामिन सी आपके प्लेटलेट्स समूह को एक साथ काम करने और कुशलता से काम करने में मदद करता है.
  • यह आपको आयरन को अवशोषित करने में भी मदद करता है, जो प्लेटलेट काउंट को बढ़ाने में भी मदद कर सकता है.
  • विटामिन सी के अच्छे सोर्स वाले फ़ूड्स में टमाटर, ब्रोकली, आम आदि होते है. 

फोलेट

  • फोलेट एक बी विटामिन है जो आपकी कोशिकाओं को रक्त कोशिकाओं सहित मदद करता है.
  • यह कई फ़ूड्स में स्वाभाविक रूप से दिखाई देता है और इसे फोलिक एसिड के रूप में दूसरों में जोड़ा जाता है.
  • नैचुरल फोलेट के सोर्स में मूंगफली, राजमा, संतरा, काली दाल आदि शामिल होते है.

फ़ूड्स जो प्लेटलेट काउंट को कम करते है

  • कुछ पेय पदार्थ प्लेटलेट काउंट को कम कर सकते है जिसमें गाय का दूध, शराब, क्रेनबैरी जूस आदि.

प्लेटलेट काउंट बढ़ाने वाले सप्लीमेंट

मेलाटॉनिन

  • आपका शरीर स्वाभाविक रूप से मेलाटोनिन का उत्पादन करता है.
  • लेकिन आप इसे तरल रूप में, कई स्वास्थ्य खाद्य भंडारों में एक टैबलेट या लोशन में भी पा सकते हैं.
  • साथ ही यह नींद की गुणवत्ता को बढाने के अलावा प्लेटलेट लेवल बढाने में मददगार होता है.

पपीता का पत्ता

  • एक अध्ययन में पाया गया कि पपीते के पत्तों का अर्क जानवरों में प्लेटलेट काउंट को बढ़ा देता है.
  • जबकि भारत में आयुर्वेदिक दवाओं में प्लेटलेट बढ़ाने के लिए इसका काफी उपयोग किया जाता है.
  • लेकिन आयुर्वेद डॉक्टर द्वारा बताई गई डोज ही ली जानी चाहिए.

कोलोस्ट्रम

  • कोलोस्ट्रम पहला पदार्थ है जो एक गाय का बच्चा अपनी माँ से प्राप्त करता है.
  • यह बहुत ही आम डाइटरी सप्लीमेंट है.

क्लोरोफिल

  • क्लोरोफिल एक हरा पिगमेंट है जो पौधों को सूरज से प्रकाश को अवशोषित करने की अनुमति देता है.
  • थ्रोम्बोसाइटोपेनिया के साथ कुछ लोग रिपोर्ट करते हैं कि क्लोरोफिल सप्लीमेंट लेने से थकान जैसे लक्षणों से राहत मिलती है.

लो प्लेटलेट काउंट के कारण

  • प्लेटलेट्स ब्लड सेल्स होते हैं जो आपके ब्लड क्लॉट को बनाने में मदद करती हैं.
  • जब आपकी प्लेटलेट की संख्या कम होती है, तो आपको थकान, आसान चोट लगने और मसूड़ों से खून आने सहित लक्षण दिखाई दे सकते हैं.
  • कम प्लेटलेट काउंट को थ्रोम्बोसाइटोपेनिया भी कहा जाता है.
  • कुछ संक्रमण, ल्यूकेमिया, कैंसर के उपचार, शराब का दुरुपयोग, लिवर सिरोसिस, प्लीहा का बढ़ना, सेप्सिस, ऑटोइम्यून रोग और कुछ दवाएं सभी थ्रोम्बोसाइटोपेनिया का कारण बन सकती हैं.
  • यदि ब्लड टेस्ट से पता चलता है कि आपकी प्लेटलेट की संख्या कम है, तो कारण जानने के लिए आपके डॉक्टर के साथ बात कर पता लगाना महत्वपूर्ण है.
  • यदि आपको हल्का थ्रोम्बोसाइटोपेनिया है, तो आप डाइट और सप्लीमेंट आहार के माध्यम से अपनी प्लेटलेट गिनती बढ़ाने में सक्षम हो सकते हैं.
  • हालांकि, यदि आपके पास गंभीर रूप से कम प्लेटलेट की गिनती है, तो आपको किसी भी जटिलता से बचने के लिए चिकित्सा उपचार की आवश्यकता होगी.
  • साथ ही हर्ब या सप्लीमेंट का उपयोग करने से पहले डॉक्टर से बात कर इंटरैक्शन और उनके सेवन के तरीकों को जानना चाहिए.

डॉक्टर से कब मिलें

  • सही से उपचार न मिलने पर थ्रोम्बोसाइटोपेनिया के कारण गंभीर जटिलताएं पैदा हो सकती है.
  • जिसमें ज्यादा ब्लीडिंग होना.
  • छोटी मोटी चोट के बाद सिरदर्द होना.
  • कटना फटना जो समय के साथ खराब होता जाता है.
  • दांतों को ब्रश करने के बाद खून निकलना होने.

अंत में

कुछ फ़ूड्स खाने और सप्लीमेंट लेने से आपकी प्लेटलेट काउंट बढ़ाने में मदद मिल सकती है. इसके अलावा थ्रोम्बोसाइटोपेनिया के लक्षण दिखने पर अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए. सबसे जरूरी कि बहुत ही लो प्लेटलेट काउंट होने पर तुरंत मेडिकल सहायता की जरूरत होती है जिससे गंभीर जटिलताओं से बचा जा सके.

 

References –

  • ods.od.nih.gov/pdf/factsheets/VitaminB12-Consumer.pdf
  • 10.1016/S0140-6736(11)61643-7
  • 10.1016/S0140-6736(11)61643-7
  • books.google.com/books?id=gMe5LCZLm2kC&printsec=frontcover#v=onepage&q&f=false
  • ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3757281/
  • ods.od.nih.gov/factsheets/Folate-Consumer/
  • doi.org/10.1182/blood-2011-02-338897
  • 10.4103/2249-4863.152276
  • ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3439835/
  • ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/124245 12
Share: