Select Page

मायोपिया क्या है, इसके लक्षण, कारण और उपाय – myopia in hindi

मायोपिया क्या है, इसके लक्षण, कारण और उपाय – myopia in hindi

मायोपिया क्या होता है? what is myopia in hindi

आज के परिपेक्ष में देखे तो अधिकतर लोगों को आँखों में रिफ्रैक्टिव विकार यानि किरणों के वक्र की समस्या के लक्षण दिखाई देने लगते हैं. जिसमें सबसे ज्यादा लोग पास की दृष्टि यानि मायोपिया से ग्रसित होते हैं. चिकित्सकों के मुताबिक बचपन में देखने की क्षमता का विकास और किशोरावस्था में आंख की लंबाई बढ़ती है और मायोपिया के चलते यह समस्या कुछ ज्यादा ही बढ़ जाती हैं.

ऐसी स्थिति में आंख में जानेवाला प्रकाश रेटिना पर केंद्रित नहीं होता है और इसी वजह से तस्वीर धुंधली दिखाई देती हैं. इसलिए आज हम आपको बताएंगे मायोपिया के घरेलू उपचार लेकिन उससे पहले इसके लक्षण और कारण जो इस प्रकार हैं.

मायोपिया के लक्षण – symptoms of myopia in hindi

  • चक्कर आना
  • बच्चों को स्कूल में ब्लैक बोर्ड पर लिखा हुआ न दिखना
  • टीवी धुंधला दिखना
  • आंखों का भेंगापन
  • दूरी पर लिखे अक्षर न पढ़ पाना
  • सिर में दर्द रहना

मायोपिया के कारण – what are the causes of myopia in hindi

  • ऐसे लोग जिनको थोड़े दूर की चीज़े भी साफ दिखाई नही देती है उसे रिफरेक्टिव एरर कहते हैं.
  • इसके अलावा मायोपिया से पीडिट रोगीयों की आईबॉल बहुत लंबी हो जाती है या उनका कॉर्निया बहुत ज्यादा कर्वी हो जाता हैं.
  • जिसके चलते आँख में रोशनी ठीक से नही पहुँच पाती है जिसके चलते आँख फोकस नही कर पाती हैं.
  • जिसके चलते आँख पर किसी भी चीज की तस्वीर, रेटिना पर न बनकर, उसके सामने बन जाती है जिससे चीजें धुंधली दिखाई देती हैं.
  • यह समस्या उम्र के साथ बढ़ती जाती हैं.
  • मायोपिया की समस्या का डॉक्टरी इलाज यह है कि इसमें लैस लगवा लिए जाए या लेजर करवाकर इससे निजात पाया जा सकता हैं.
  • लेकिन समस्या ज्यादा हो तो ऑपरेशन द्वारा मायोपिया का इलाज संभव है.

इसके अलावा निम्न कारण भी हैं :

  • डायबिटीज से ग्रसित होने पर
  • आनुवांशिकी कारणों से भी ऐसा हो सकता है
  • लबे समय तक एक ही लैंस का प्रयोग करना
  • किसी भी चीज को बहुत पास से घूरकर कार्य करना
  • कम रोशनी में कोई कार्य करना, जैसे पढ़ना या टीवी देखना

मायोपिया ठीक करने के उपाय – myopia home remedies in hindi

  • ब्रीथिंग व्यायाम करें
  • त्रिफला चूरन रोजाना लें
  • लंबे समय तक टेलीविजन देखने या पढ़ने से बचें
  • जहां काम करें, वहां पर्याप्त रोशनी होनी चाहिए
  • आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए आंवला का प्रयोग करें
  • मुंह में पानी भर कर आंखों को ताजे पानी से धोएं
  • प्रदूषण या धूप में निकलने से पहले आंखों पर चश्मा पहनें
  • लिकरेसी की जड़ का पाउडर और शहद मिलाकर दूध के साथ लें
  • नारियल, मिश्री, सौंफ और बादाम को मिलाकर मिक्सर तैयार करें और पाउडर बनायें, दिन में दो बार खाएं
  • आँखों की रौशनी तेज हो इसके लिए विटामिन से पूर्ण भोजन करें
  • दूध और दही जैसे खाद्य पदार्थ जरूर खाएं
  • अंडा भी आँखों के लिए बेहद फायदेमंद है
  • सौंफ, मिश्री और बादाम को बराबर मात्रा में मिलाकर पाउडर बनाएं और सुबह- शाम खाएं
  • बादाम और गौंद से बने लड्डू भी आँखों के लिए फायदेमंद हैं
  • आँखों की रोशनी तेज करने के लिए सलाद जरूर खाएं
  • आँखों के व्यायाम जरूर करें

इसके अलावा भी आंखों की कई समस्या होती है जिसके लिए तुरंत डॉक्टर से परामर्श करना जरूरी होती है. आंखों या दृष्टि की किसी भी तरह की परेशानी होने और लंबे समय तक बने रहने पर डॉक्टर से तुरंत संपर्क करना चाहिए.