इस लेख में आप जानेंगे ब्लू फिल्म देखने की लत के बारे में, किन संकेतो का ध्यान रखना चाहिए, कारण, गंदी आदतों को दूर कैसे करें, इलाज, जटिलताएं और अपने प्रियजनों की मदद कैसे करें –

पॉर्न देखने का लत क्या होती है – what is pornography addiction?

  • दुनिया में इंटरनेट के आने से पहले ब्लू फिल्मों का अपना ही बाजार रहा है.
  • वहीं ब्लू फिल्मों से पहले की बात करें को उस समय पर ऐसी मैगज़ीन आदि रही है जिनमें यह सबकुछ छपा करता था. (जानें – हस्तमैथुन की लत को कैसे छोड़े)
  • जबकि पॉर्न का मुद्दा हमेशा से ही विवादास्पद रहा है. फिर चाहे वह मैगज़ीन, ब्लू फिल्म या अब इंटरनेट पर उपलब्ध पॉर्न या कहे गंदी फिल्में ही क्यों न हों.
  • हमारे समाज में ऐसे बहुत से लोग है जो खुलकर कबुल करते है कि वह पॉर्न देखते है.
  • कुछ लोग बिल्कुल भी कोई रूचि नहीं रखते है और अन्य चोरी छुपके देखना पसंद करते है.
  • जो लोग इनको रेगुलर देखते है उनकी फैंटसी या निजी पसंद बदल जाती है.
  • ध्यान रहें कि पॉर्न की लत कोई आधिकारिक शब्द नही है.
  • लेकिन पॉर्न देखने के बाद अनियंत्रित व्यवहार हो जाना कुछ लोगों के लिए समस्या हो सकता है.
  • अनियंत्रित व्यवहार में ऐसी आदते हो जाना जिनको समस्या माना जाता है.
  • अनचाही व्यवहारात्मक चीज़े करना आदि हो सकते है.

क्या सच में यह लत होती है?

  • जैसा कि लोग इस बारे में खुलकर बात करना पसंद नहीं करते है, इसलिए नियमित रूप से देखने पर लोग कैसा महसूस करते है यह पता लगा पाना मुश्किल है.
  • आज के समय में इंटरनेट पर बहुत सारी पॉर्न साइट मौजूद है, जिस कारण कोई भी अपने फोन या लैपटॉप आदि पर इसे देख सकता है.
  • इसलिए पॉर्न के कारण कोई समस्या है या नहीं इसका पता लगा पाना बहुत कठिन है.
  • लेकिन रिसर्च के अनुसार व्यवहारात्मक लत काफी गंभीर हो सकती है.
  • हालांकि, काफी अध्ययन करने वाले लोगों का मानना है कि पॉर्न देखना लत से अधिक अनिवार्यता बन जाती है. (जानें – योनि मसाज थेरेपी के बारे में)
  • पॉर्न देखना अगर समस्या बन जाता है तो फिर से कंट्रोल पाने के कई तरीके है.

पॉर्न की लत के संकेत क्या हो सकते है?

  • सामान्य रूप से पॉर्न देखना या इसका लुफ्त उठाने का मतलब यह नहीं होता है कि आपको इसकी लत है.
  • लत का मतलब होता है, कंट्रोल न कर पाना, जिस कारण समस्याएं हो सकती है.
  • गंदी फिल्म देखने की लत एक समस्या हो सकती है जैसे आप कितने समय पॉर्न देखते है वो पता होना.
  • पॉर्न देखने के अंजाम के बारे में खुद को दोषी मानना.
  • जरूरी कामों को छोड़कर कई घंटो तक पॉर्न साइट सर्च करने में समय बिताना.
  • अपने सेक्सुअल पार्टनर को पॉर्न साइट दिखाना या उनकी इच्छा के विरूद्ध वैसी फैंटसी पूरी करने के लिए बोलना.
  • सेक्स से पहले बिना पॉर्न देखे आनंद न उठा पाना आदि हो सकते है.

पॉर्न की लत के कारण क्या होते है?

  • यह कहना मुश्किल है कि पोर्न देखना कभी-कभी एक आउट-ऑफ-कंट्रोल व्यवहार में क्यों बढ़ सकता है.
  • आप पोर्न देखना शुरू कर सकते हैं क्योंकि आप इसे पसंद करते हैं और इसे देखना समस्या नहीं है.
  • आप उस जल्दबाजी का आनंद ले सकते हैं या खुद को चाहते हैं कि आप उस जल्दबाजी को अधिक बार देखें.
  • तब तक, यह कोई फर्क नहीं पड़ता कि ये देखने की आदतें एक समस्या पैदा कर रही हैं या आपको बाद में इसके बारे में बुरा महसूस कर सकते है.
  • लेकिन एक क्षण ऐसा होता है जिसमें काबू पाना मुश्किल हो जाता है.
  • ऐसे में आप खुद को रोकने की कोशिश करते है और आप नहीं कर पाते है.
  • इसी कारण व्यवहारात्मक परेशानियां लोगों में आ जाती है.
  • पॉर्न देखने की चूल, खाली समय, अकेले होने, घबराहट या डिप्रेशन आदि में आ सकती है.
  • व्यवहारत्मक परेशानी के जैसे यह किसी को भी हो सकती है.  

क्या आप इस आदत को खुद से रोक सकते है?

  • आप पॉर्न देखने को लेकर खुद पर कंट्रोल कर सकते है.
  • इसके लिए अपने फोन या लैपटॉप आदि से ऐसी साइट्स को हटा दें.
  • अगर लैपटॉप में सेव कर रखी है तो उसे डिलीट कर दें.
  • अपने पोन या लैपटॉप आदि में एंटी पॉर्न सॉफ्टवेयर डाउनलोड कर सकते है.
  • पॉर्न देखने की इच्छा होने पर खुद को किसी दूसरे काम में लगा लें.
  • इसके अलावा पॉर्न देखने की प्रबल इच्छा होने पर खुद को याद दिलाए कि कैसे आपकी लाइफ इससे प्रभावित हुई है.
  • पता लगाए कि ऐसा क्या है जो इसे ट्रिगर करता है उससे बचें.

इलाज

  • थेरेपी – इसे लेने के लिए किसी प्रोफेशनल से मिलना चाहिए जिससे वह आपकी कंडीशन के अनुसार सही ट्रीटमेंट दे सके. कंडीशन जानने के लिए वह आपसे डिप्रेशन के कारण, ओसीडी और घबराहट आदि के बारे में पूछ सकते है.
  • दवाएं – आुकी कंडीशन के अनुरूप डॉक्टर द्वारा दवाएं आदि दी जाती है. साथ ही किसी और समस्या के होने पर उसका इलाज भी किया जाना चाहिए.

इलाज न मिलने पर क्या जटिलताएं हो सकती है?

  • लत या चस्के का इलाज न किए जाने पर आपके जीवन में समस्या आ सकती है.
  • दो पार्टनर के बीच रोमेंटिक, सेक्सुअल संबंधों पर इसका असर पड़ सकता है.
  • इसकी लत के कारण आत्म विश्वास की कमी, खराब शारीरिक और मानसिक संबंध होना आदि हो सकता है.
  • इस कारण करियर या अन्य समस्याएं भी हो सकती है.

किसी खास प्रियजन के बारे में चिंतित होने –

  • पॉर्न देखना हमेशा समस्या का कारण नहीं होता है.
  • यह जानने की इच्छा हो सकती है या पॉर्न का आनंद लेने के कोई खराब प्रभाव नहीं होते है.
  • समस्या तब होती है जब आपके प्रियजन गलत जगह या समय पर पॉर्न देख रहे हैं.
  • पॉर्न देखने में ज्यादा समय बिताना जिस कारण सोशल, पढ़ाई आदि में परेशानी होना.
  • रिश्तों में परेशानी का अनुभव करने पर यह समस्या बन सकता है.
  • खुद को इससे दूर रखने की कोशिश करना लेकिन रख न पाना हो सकता है.

अंत में

कभी-कभी पॉर्न देखना या नियमित रूप से देखने का मतलब यह बिल्कुल नहीं है कि आपको कोई परेशानी है.

अगर देखना बंद करने की कोशिश करने और असफल रहने पर आपको लत, सेक्सुअल डिसफंक्शन आदि का अनुभव हो सकता है.

ऐसे में किसी प्रोफेशनल से सलाह ली जानी चाहिए जिससे वह जीवन की गुणवत्ता सुधार करने में मदद कर सकें.

References –

 

Share: