Select Page

पेट का कैंसर – stomach cancer

पेट का कैंसर – stomach cancer

इस लेख में आप जानेंगे पेट का कैंसर क्या होता है, कारण, रिस्क फैक्टर, निदान, इलाज और बचाव –

पेट का कैंसर क्या होता है? – what is stomach cancer?

  • पेट की लिनिंग के अंदर कैंसर सेल्स की ग्रोथ को पेट के कैंसर के रूप में जाना जाता है. इसे गैस्ट्रिक कैंसर भी कहा जाता है. (जानें – सिबेयसिस सिस्ट के बारे में)
  • इस तरह के कैंसर का पता लगाना बहुत ही मुश्किल होता है.
  • ऐसा इसलिए क्योंकि शुरूआती स्टेज में इसके कोई लक्षण दिखाई नहीं देते है.
  • हालांकि दूसरे कैंसर की तुलना में पेट का कैंसर काफी रेयर है.
  • पेट के कैंसर में सबसे बड़ी कठिनाई इसका निदान कर पाना है.
  • इसका शुरूआती स्टेज में निदान बहुत ही कठिन होता है जिस कारण शरीर के दूसरे हिस्सों तक फैल जाने के बाद ही इसका पता लग पाता है.
  • जैसा की आप जानते है कि पेट के कैंसर का निदान बहुत मुश्किल होता है लेकिन इसके बारे में आपको जरूरी जानकारी होनी चाहिए.

पेट के कैंसर के कारण क्या होते है? – what are the causes of stomach cancer in hindi

  • हमारा पेट इसोफेगस के साथ में पाचन तंत्र का एक ऊपरी हिस्सा होता है.
  • पेट का काम भोजन को पचाना और पोषण को अन्य पाचन अंगों तक पहुंचाना होता है.
  • अन्य पाचन अंगो में छोटी और बड़ी आंते होती है.
  • जब पाचन तंत्र के ऊपरी हिस्से में सामान्य सेल्स कैंसर का रूप लेकर तेज़ी से विकसित होने के साथ साथ ट्यूमर बना देते है उसे पेट का कैंसर कहा जाता है.
  • पेट का कैंसर विकसित होने में कई साल लगते है.

पेट का कैंसर के रिस्क फैक्टर

  • पेट का कैंसर पेट में होने वाले ट्यूमर से सीधे जुड़ा होता है.
  • हालांकि, कुछ कारक हैं जो इन कैंसर सेल्स को विकसित करने के आपके जोखिम को बढ़ा सकते हैं.
  • इन जोखिम कारकों में कुछ रोग और स्थितियां शामिल हैं, जैसे कि लिमफोमा, पेट में बैक्टीरियल इंफेक्शन जिस कारण अल्सर हो जाते है.
  • पाचन तंत्र के दूसरे हिस्सों में ट्यूमर हो जाना, पेट की लिनिंग पर टिश्यू की असामान्य ग्रोथ आदि.
  • पुरूषों, स्मोकिंग करने वाले लोग, फैमिली हिस्ट्री, 50 से अधिक आयु वाले लोगों में यह होना आम है.
  • हालांकि, भारत में इसका होना आम नहीं है, जबकि एशिया में कोरिया या जापानी लोगों में इसके होने की आशंका रहती है.
  • जबकि आपका व्यक्तिगत चिकित्सा इतिहास पेट के कैंसर के विकास के आपके जोखिम को प्रभावित कर सकता है, कुछ जीवनशैली कारक भी भूमिका निभा सकते हैं.
  • इसके अलावा निम्न कंडीशन में पेट के कैंसर का रिस्क ज्यादा होता है जैसे बहुत अधिक मांस खाना, एक्सरसाइज न करना, शराब का बहुत अधिक सेवन, बहुत अधिक नमकीन या प्रोसेस्ड फ़ूड्स खाना, भोजन का ठीक से पका न होना होता है.
  • यदि आप मानते हैं कि पेट के कैंसर के विकास के लिए जोखिम है, तो आप स्क्रीनिंग टेस्ट कराने पर विचार कर सकते हैं.
  • स्क्रीनिंग टेस्ट तब किए जाते हैं जब लोगों को कुछ बीमारियों का खतरा होता है, लेकिन अभी तक इसके लक्षण दिखाई नहीं देते हैं.

पेट के कैंसर के लक्षण – what are the symptoms of stomach cancer?

  • इसके शुरूआती कोई संकेत या लक्षण नहीं होते है.
  • कैंसर के एडवांस होने तक इसके बारे में पता लगाना मुश्किल हो जाता है.
  • एडवांस स्टेज में निम्न लक्षण महसूस हो सकते है जैसे मल से खून निकलना, हार्टबर्न, मतली, उल्टी, अचानक से वजन कम होना.
  • इसके अलावा लक्षणों में पीलिया, पेट में दर्द, बहुत ज्यादा थकान, भूख न लगना शामिल है.

निदान

  • चूंकि पेट के कैंसर वाले लोग शुरुआती चरणों में शायद ही कभी लक्षण दिखाते हैं.
  • इसलिए बीमारी का निदान तब तक नहीं किया जाता है जब तक कि यह अधिक उन्नत न हो.
  • निदान करने के लिए, आपका डॉक्टर किसी भी असामान्यताओं की जांच करने के लिए पहले एक शारीरिक परीक्षा करेंगे.
  • वे बैक्टीरिया की उपस्थिति के लिए एक परीक्षण सहित ब्लड टेस्ट का आदेश भी दे सकते हैं.
  • यदि आपके डॉक्टर का मानना है कि आपको पेट के कैंसर के लक्षण दिखाई देते हैं, तो अधिक नैदानिक परीक्षण करने की आवश्यकता होगी.
  • नैदानिक परीक्षण विशेष रूप से पेट और अन्नप्रणाली में संदिग्ध ट्यूमर और अन्य असामान्यताओं की तलाश करते हैं.
  • इन टेस्ट में बायोप्सी, सीटी स्कैन, एक्स-रे, पेट के ऊपरी हिस्से की एंडॉस्कोपी शामिल है.

पेट के कैंसर का इलाज – what is the treatment of stomach cancer?

  • इसके इलाज के लिए सर्जरी, इम्यूनोथेरेपी, कीमोथेरेपी, रेडिएशन थेरेपी शामिल है.
  • सही ट्रीटमेंट प्लान इसकी शुरूआत और स्टेज पर निर्भर करता है.
  • इसके अलावा संपूर्ण हेल्थ और आयु इसमें अहम रोल निभाते है.
  • पेट में कैंसर सेल्स के इलाज के अलावा, ट्रीटमेंट का गोल इसके सेल्स को फैलने से रोकना होता है.
  • इलाज न मिलने पर यह पेट के कैंसर के सेल्स फेफड़ों, लिवर, हड्डी, लिम्फ नोड्स में फैल सकता है.

पेट के कैंसर का बचाव कैसे करें

  • अकेले पेट के कैंसर से बचाव नहीं किया जा सकता है लेकिन निम्न तरीकों से सभी प्रकार के कैंसर का रिस्क विकसित करने को कम कर सकते है.
  • जिसमें संतुलित डाइट लेना, हेल्दी वजन बनाए रखना, एक्सरसाइज नियमित रूप से करना, स्मोकिंग छोड़ना शामिल होता है.
  • कुछ मामलों में, डॉक्टर ऐसी दवाएं भी लिख सकते हैं जो पेट के कैंसर के खतरे को कम करने में मदद कर सकती हैं.
  • यह आमतौर पर उन लोगों के लिए किया जाता है जिन्हें अन्य बीमारियां हैं जो कैंसर में योगदान दे सकते हैं.
  • आप एक प्रारंभिक स्क्रीनिंग टेस्ट प्राप्त करने पर भी विचार कर सकते हैं.
  • यह परीक्षण पेट के कैंसर का पता लगाने में मददगार हो सकता है.
  • आपका डॉक्टर पेट के कैंसर के लक्षणों की जांच के लिए निम्नलिखित में से एक स्क्रीनिंग टेस्ट का उपयोग कर सकता है.
  • स्क्रीनिंग के दौरान जेनेटिक टेस्ट, एक्स-रे, सीटी स्कैन, लैब टेस्ट, ब्लड और यूरिन टेस्ट समेत शारीरिक एक्जाम शामिल है.

अंत में

यदि प्रारंभिक अवस्था में ही निदान हो जाए तो आपके ठीक होने की संभावना बेहतर होती है. जब मूल अज्ञात है, तो कैंसर का निदान और चरण करना मुश्किल हो सकता है. इससे कैंसर का इलाज कठिन हो जाता है. पेट के कैंसर का इलाज करना और भी मुश्किल है क्योंकि यह बाद के चरणों में पहुँचता है. किसी अन्य समस्या या सवाल के लिए डॉक्टर से बात कर सलाह ली जानी चाहिए. 

References –

 

Share:

About The Author

Kartik bhardwaj

Hi, I have an experience of more than 6 years Ex - Tangerine(To the New), DD News, ABP News, RSTV, Express Magazine and Lybrate Inc.