Select Page

टाइप 1 डायबिटीज के बारे में – type 1 diabetes in hindi

टाइप 1 डायबिटीज के बारे में – type 1 diabetes in hindi

इस लेख में आप जानेंगे टाइप 1 डायबिटीज क्या होती है, इसके लक्षण, कारण, निदान, इलाज, रिस्क फैक्टर, बच्चों में डायबिटीज, प्रेगनेंसी, जटिलताएं, एक्सरसाइज और इसे मैनेज करने के तरीके – (जानें – डायबिटीज क्या होता है)

टाइप 1 डायबिटीज क्या होती है – what is type 1 diabetes in hindi

  • टाइप 1 मधुमेह एक क्रोनिक रोग है. 
  • इससे ग्रसित लोगों में इंसुलिन बनाने वाले पैंक्रियाज सेल्स नष्ट हो जाते हैं और शरीर इंसुलिन बनाने में असमर्थ हो जाता है.
  • इंसुलिन एक हार्मोन है जो आपके शरीर के सेल्स को एनर्जी के लिए ग्लूकोज का उपयोग करने में मदद करता है.
  • आपके शरीर को खाए गए भोजन से ग्लूकोज मिलता है. 
  • इंसुलिन आपके शरीर की कोशिकाओं में रक्त से ग्लूकोज को पारित करने की अनुमति देता है.
  • जब सेल्स में ग्लूकोज़ पर्याप्त मात्रा में होता है, तो आपके लिवर और मांसपेशियों के टिश्यू में ग्लाइकोजन के रूप में अतिरिक्त ग्लूकोज को ब्लड शुगर भी कहा जाता है.
  • यह ब्लड शुगर में टूटकर और जब आपको भोजन के बीच, एक्सरसाइज के दौरान या जब आप सोते हैं तो एनर्जी की आवश्यकता होती है.
  • टाइप 1 डायबिटीज के मामलों में इंसुलिन की कमी के कारण शरीर ग्लूकोज को प्रोसेस नहीं कर पाता है.
  • फ़ूड्स से मिलने वाला ग्लूकोज सेल्स तक नहीं पहुँच पाता है. (जानें – डायबिटीज में इन फ़ूड्स से बचें)
  • इस कारण बहुत अधिक ग्लूकोज ब्लड में सर्कुलेट होता रहता है.
  • हाई ब्लड शुगर रहने के कारण कम समय और लंबे समय की समस्याएं हो सकती है.

टाइप 1 डायबिटीज के लक्षण क्या है – what are the symptoms of type 1 diabetes in hindi

  • बहुत अधिक प्यास लगना
  • बार बार पेशाब आना
  • थकान
  • धुंधली दृष्टि
  • ज्यादा भूख लगना
  • कम समय में बहुत ज्यादा वजन कम होना

रोगी को डायबिटीज की जटिलताएं भी हो सकती है –

(जानें – क्या होता है टाइप 1 डायबिटीज और टाइप 2 डायबिटीज के बीच में अंतर)

टाइप 1 डायबिटीज के कारण क्या है – what are the causes of type 1 diabetes in hindi

  • टाइप 1 डायबिटीज का सटीक कारण अज्ञात है. हालाँकि, यह एक ऑटोइम्यून रोग है.
  • शरीर का इम्यून सिस्टम गलती से पैक्रियाज में बीटा सेल्स पर अटैक करते है. यह सेल्स इंसुलिन बनाते है.
  • ऐसा क्यों होता है, यह वैज्ञानिक पूरी तरह से नहीं समझ पाए हैं.
  • जेनेटिक्स और वातावरण के कारक जैसे वायरस आदि अहम भूमिका निभाते है.

टाइप 1 डायबिटीज का निदान क्या है – how to diagnose type 1 diabetes in hindi

इसके लिए कुछ टेस्ट किए जाते है जिसमें –

  • खाली पेट ब्लड शुगर का टेस्ट किया जाता है.
  • खाने के 2 घंटे बाद ब्लड शुगर लेवल टेस्ट किया जाता है.
  • हिमोग्लोबीन टेस्ट के भी दो अलग टेस्ट होते है.
  • टाइप 1 और टाइप 2 डायबिटीज का निदान कर जाने के मानदंड एक जैसे होते है.
  • कुछ मामलों में लोग टाइप 1 और टाइप 2 में भ्रमित हो जाते है.
  • लक्षणों के खराब होने तक गलत निदान का पता नहीं चलता है.
  • ब्लड शुगर बहुत अधिक हाई होने पर डायबिटीक कीटोएसिडोसिस हो जाती है और आप बहुत अधिक बीमार हो जाते है.
  • डायबिटीज के लक्षण होने पर डॉक्टर से बात कर सलाह ली जानी चाहिए. (जानें – टाइप 3 डायबिटीज के बारे में)

टाइप 1 डायबिटीज का इलाज क्या है – what are the treatment of type 1 diabetes in hindi

यदि आपको टाइप 1 डायबिटीज का पता चलता है, तो आपका शरीर अपना इंसुलिन नहीं बना सकता है. आपके शरीर को आपके ब्लड शुगर का उपयोग करने में मदद करने के लिए आपको इंसुलिन लेने की आवश्यकता होगी. अन्य उपचार भी टाइप 1 मधुमेह के लक्षणों को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं.

इंसुलिन

  • टाइप 1 डायबिटीज वाले लोगों को हर दिन इंसुलिन लेनी चाहिए.
  • आमतौर पर इंसुलिन को एक इंजेक्शन के माध्यम से लिया जाता हैं.
  • कुछ लोग इंसुलिन पंप का इस्तेमाल करते है.
  • पंप को स्किन में पोर्ट के माध्यम से इंजेक्ट किया जाता है.
  • जबकि कुछ लोगों के लिए नीडल से इस्तेमाल में आसानी रहती है.
  • इसके अलावा यह ब्लड शुगर लेवल को सामान्य रखने में कारगर होती है.
  • रोजाना इंसुलिन की मात्रा अलग अलग होती है.
  • टाइप 1 मधुमेह वाले रोगियों को नियमित ब्लड शुगर लेवल की जांच करते रहनी पड़ती है.
  • डाइट और एक्सरसाइज ब्लड शुगर लेवल को प्रभावित कर सकते है.

मेटफोर्मिन

  • मेटफोर्मिन डायबिटीज की मौखिक दवा का एक प्रकार है.
  • कई सालों से इस दवा को टाइप 2 डायबिटीज रोगियों द्वारा किया जाता रहा है.
  • हालांकि, टाइप 1 डायबिटीज वाले कुछ लोग इंसुलिन प्रतिरोध विकसित कर सकते है.
  • जिस कारण ऐसे रोगियों में इंसुलिन ठीक से काम नहीं करती है.
  • मेटफोर्मिन का उपयोग लिवर में शुगर प्रोडक्शन को घटाकर ब्लड में शुगर को कम करती है.

अन्य दवाएं

  • डॉक्टर द्वारा बताई गई दवाओं का सेवन करके इसे कंट्रोल में रखा जा सकता है.
  • शरीर को फोर्स कर मूत्र निष्कासित करके और ग्लूकोज अवशोषण को कम करके यह दवा शरीर में रक्त में ग्लूकोज के स्तर को कम करने के लिए काम करती है.
  • ऐसी ही दवाएं टाइप 2 के लिए भी उपयोग होती है लेकिन टाइप 1 रोगियों द्वारा नहीं ली जानी चाहिए.

डाइट और एक्सरसाइज

  • टाइप 1 डायबिटीज वाले रोगियों को ब्लड शुगर को स्थिर रखने के लिए नियमित भोजन और स्नैक्स खाने चाहिए.
  • जानें – डायबिटीज वाले रोगियों को कौन से फ़ूड्स खाने चाहिए.
  • एक्सरसाइज भी ब्लड शुगर के लेवल को कम करने में मदद करती है. 
  • एक्सरसाइज के प्रकार के अनुसार इंसुलिन की मात्रा को समायोजित करने की आवश्यकता हो सकती है. 

टाइप 1 डायबिटीज के रिस्क फैक्टर क्या है – what are the risk factors of type 1 diabetes in hindi 

टाइप 1 डायबिटीज के जोखिम कारक खराब समझे जाते हैं. हालांकि, कुछ संभावित कारकों की पहचान की गई है.

जेनेटिक्स

  • टाइप 1 मधुमेह के कुछ मामलों में पारिवारिक इतिहास महत्वपूर्ण हो सकता है. 
  • यदि आपके पास टाइप 1 मधुमेह वाला परिवार का सदस्य है, तो इसे विकसित करने का आपका जोखिम बढ़ जाता है.
  • कई जेनेटिक्स को इस स्थिति से जोड़ा गया है. 
  • हालांकि, हर कोई जिनके पास ये जीन है, वे टाइप 1 मधुमेह विकसित करते हैं.
  • कई शोधकर्ताओं और डॉक्टरों का मानना है कि कुछ लोगों में ट्रिगर टाइप 1 मधुमेह का विकास होता है, लेकिन अन्य लोगों में नहीं.

वातावरण

  • कुछ वायरसों को टाइप 1 डायबिटीज को ट्रिगर करने के लिए जिम्मेदार माना जाता है.
  • ठंडा वातावरण में रहने वाले लोगों को टाइप 1 मधुमेह के आसार अधिक होते है.

बच्चों में टाइप 1 डायबिटीज

इसके लक्षणों में –

  • वजन कम होना
  • थकान रहना
  • मूड में बदलाव
  • धुंधली दृष्टि
  • भूखा रहना
  • ज्यादा प्यास लगना
  • बार बार पेशाब जाना
  • रात को बिस्तर गीला करना

बच्चों में भी इसका इलाज इंसुलिन से होता है. किसी अन्य सवाल के लिए डॉक्टर से बात करें.

प्रेगनेंसी

  • गर्भावस्था उन महिलाओं के लिए अद्वितीय चुनौतियां प्रस्तुत करती है जिन्हें टाइप 1 मधुमेह है.
  • हालाँकि, बीमारी होने के बावजूद स्वस्थ गर्भावस्था और बच्चे का होना संभव है.
  • सबसे महत्वपूर्ण बात यह याद रखें कि यदि आप गर्भवती होने की उम्मीद कर रही हैं या टाइप 1 डायबिटीज है तो यह है कि आप अपने शरीर के लिए जो कुछ भी करती हैं, आप अपने बच्चे के लिए करती हैं.
  • जिन महिलाओं का ब्लड शुगर लेवल हाई होता है उनमें हाई ब्लड शुगर वाले बच्चे होते हैं.
  • गर्भावस्था के दौरान उच्च रक्त शर्करा का स्तर जटिलताओं को जन्म दे सकता है. 
  • जैसे कि उच्च जन्म वजन, जटिल सी-सेक्शन, अपरिपक्व जन्म, निम्न रक्त शर्करा, उच्च रक्तचाप और यहां तक कि गर्भपात भी हो सकता है.
  • यदि आपको टाइप 1 डायबिटीज है और आप गर्भवती बनना चाहती हैं या आपको पता है कि आप गर्भवती हैं, तो तुरंत अपने डॉक्टर से बात करें.
  • वे आपके रक्त शर्करा के स्तर को स्थिर रखने और आपके और आपके बच्चे के लिए सुरक्षित रहने की गारंटी देने के लिए आपके द्वारा किए जा सकने वाले परिवर्तनों पर चर्चा कर सकते हैं.
  • गर्भावस्था के लिए आगे की योजना बनाना और अपने डॉक्टर के साथ अपने मधुमेह और रक्त शर्करा के लक्ष्यों पर चर्चा करना सबसे अच्छा है.

शराब पीना

  • टाइप 1 मधुमेह वाले लोगों के लिए, अल्पावधि में शराब रक्त शर्करा के स्तर पर बड़ा प्रभाव डाल सकती है.
  • समय के साथ, अत्यधिक शराब का उपयोग मधुमेह की जटिलताओं में योगदान कर सकता है.
  • जिगर शरीर से शराब को संसाधित करने और हटाने के लिए जिम्मेदार है.
  • लिवर रक्त शर्करा के स्तर को प्रबंधित करने में भी शामिल होता है.
  • यदि आपको टाइप 1 मधुमेह है और शराब पीते हैं, तो शराब से निपटने के लिए आपका शरीर रक्त शर्करा के प्रबंधन को धीमा कर देता है.
  • शराब पीने के तुरंत बाद और 12 घंटे तक इससे निम्न रक्त शर्करा हो सकता है.

जटिलाताएं

सुरक्षित एक्सरसाइज

  • टाइप 1 मधुमेह वाले लोगों के लिए एक्सरसाइज करना मुश्किल हो सकता है. 
  • लेकिन यह स्वस्थ जीवन शैली का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है जो इस बीमारी वाले लोगों के लिए महत्वपूर्ण है.
  • जिन लोगों को टाइप 1 मधुमेह है, उन्हें प्रति सप्ताह कम से कम 150 मिनट एक्सरसाइज करने का लक्ष्य रखना चाहिए.
  • दो दिन से अधिक का बिना एक्सरसाइज के गैप नहीं होना चाहिए.
  • एरोबिक्स एक्सरसाइज को टाइप 1 डायबिटीज वाले रोगियों में अच्छा माना जाता है.
  • ताकत बढ़ाने वाली ट्रेनिंग और प्रतिरोध बढ़ाने वाले ट्रेनिंग बहुत लाभ देती है.
  • इसे मैनेज करने के लिए बेस्ट एक्सरसाइज कौन सी है, रिसर्च करने वाले लोगों द्वारा साफ नहीं है.
  • ऐसा इसलिए क्योंकि एक्सरसाइज के दौरान या दौरान ब्लड शुगर लेवल बढ़ना या कम होना हो सकते है.

अंत में

टाइप 1 डायबिटीज एक क्रोनिक रोग है जिसके कोई इलाज नहीं है. लेकिन अच्छी लाइफ़स्टाइल के साथ इसे मैनेज किया जा सकता है. हेल्दी डाइट, एक्सरसाइज और समय पर इंसुलिन लेना आपकी मदद कर सकते है. (जानें – इंसुलिन लेवल बनाए रखने के टिप्स)