Select Page

होठों पर सफेद स्पॉट – white spots on lips in hindi

होठों पर सफेद स्पॉट – white spots on lips in hindi

इस लेख में आप जानेंगे होठों पर सफेद स्पॉट क्या होते है, इसके कारण, निदान, इलाज और घरेलू उपचार –

होठों पर सफेद स्पॉट क्या होते है – what are white spots on lips in hindi

  • दुनिया में लोगों से बात करने के लिए लिप्स जरूरी होते है. जबकि इनपर कोई स्पॉट या बम्प होने पर आपको संकोच हो सकता है.
  • इन स्पॉट के हो जाने के कई कारण हो सकते है. जिसमें से अधिकतर कोई चिंता के कारण नहीं होते है.
  • वहीं कुछ मामलों में यह ओरल कैंसर की ओर ईशारा कर सकते है.
  • इसलिए यह स्पॉट सुरक्षित है या नहीं, इसका पता लगाने के लिए जांच जरूरी है.

होठों पर वाइट स्पॉट के कारण क्या होते है – what causes white spots on lips in hindi

इसके होने के निम्न कारण हो सकते है –

मुंह में होने वाले सफेद और पीले दाने

  • यह छोटे 1 से 2 एमएम सफेद या पीले दाने होठों के ऊपर छोटी से गांठ या ऑयल विकसित करने वाले ग्लैंड की तरह होते है.
  • आयु के साथ यह बड़े होने लगते है.
  • किसी इंसान को खासकर अंदरूनी भाग में 1 से लेकर 100 तक छोटे बम्पस हो सकते है.

ओरल थ्रश

  • यह फंगल इंफेक्शन होता है जिसके कारण मुंह, लिप्स, मसूड़े या टॉन्सिल पर सफेद दाने हो सकते है.
  • कुछ मामलों में लिप्स पर सफेद स्पॉट जेनेटिक्स कारणों के चलते हो सकते है.
  • जबकि कुछ लोगों को यह तिलों या जन्म निशान के रूप में होते है.

मिलिया

  • यह छोटे और सफेद स्पॉट बच्चों में होना आम है.
  • जब डेड स्किन सेल्स, त्वचा के अंदर ट्रैप हो जाते है तो यह स्थिति होती है.
  • अधिकतर मामलों में यह चेहरे पर होती है लेकिन लिप्स पर भी हो सकती है.

ओरल कैंसर

  • चेहरे पर किसी भी शेप का सफेद उभार हो सकता है.
  • शुरूआत में इसमें कोई दर्द नही होता है लेकिन समय के साथ यह खून निकलना और छाले जैसा हो जाता है.
  • सूर्य एक्सपोजर, शराब, तंबाकू समेत एचपीवी के कारण ओरल कैंसर हो सकता है.

हर्पस सिम्पलेक्स

  • इसके कारण लिप्स पर सफेद स्पॉट या चुभन वाले छाले हो सकते है.
  • शुरूआत में यह छोटे, लाल और फ्लूइड से भरे हुए हो सकते है.

डॉक्टर से मदद कब लें

लिप्स पर सफेद स्पॉट होने पर शायद ही इमरजेंसी मेडिकल सहायता की जरूरत पड़ती है. हालांकि, वाइट स्पॉट के साथ निम्न स्थितियां होने पर डॉक्टर से तुरंत मिलना चाहिए. 

  • बम्प जिनमें से ब्लीडिंग होती है.
  • जबड़ा या गर्दन की सूजन
  • चबाने और निगलने में परेशानी
  • बुखार
  • गले में खराश
  • गले में जकड़न महसूस होना
  • स्पॉट जिनमें दर्द होता है

अगर वाइट बम्प्स दो हफ्तों में अपने आप ठीक नहीं होते है तो डॉक्टर से बात कर सलाह ली जानी चाहिए.

वाइट स्पॉट का निदान कैसे करें – how to diagnose white spots on lips in hindi

  • लिप्स पर सफेद स्पॉट को देखने के लिए डॉक्टर आपकी पूरी मेडिकल हिस्ट्री जानने के बाद शारीरिक जांच करेंगे.
  • सूजन की जांच करने के लिए डॉक्टर आपके चेहरे, लिप्स के अंदर और जबड़े को पकड़कर जांच करेंगे.
  • लिम्फ नोड की सूजन का पता लगाने के लिए वह आपकी गर्दन की जांच भी करेंगे.
  • जरूरत पड़ने पर लिप्स का कल्चर भी किया जा सकता है जिसमें लैब में टेस्ट कर वायरस, बैक्टीरिया या फंगी का पता लगाया जा सकता है.
  • ओरल कैंसर की आशंका होने पर टिश्यू सैंपल भी लिए जा सकते है.
  • अधिकतर मामलों में डॉक्टर सफेद स्पॉट का निदान कर देख कर पता लगा लेते है.
  • ब्लड टेस्ट के माध्यम से हर्पस वायरस का पता लग जाता है.

वाइट स्पॉट के इलाज क्या हो सकते है – treatment options white spots on lips in hindi

  • लिप्स पर सफेद स्पॉट का इलाज लक्षणों के कारण पर निर्भर करता है.
  • कुछ कंडीशन जैसे सफेद पीले दाने या स्पॉट के लिए उपचार की जरूरत नहीं पड़ती है.
  • अगर आपको यह दाने पसंद नहीं तो आप इन्हें हटवा सकते है.
  • इसके लिए इलेक्ट्रोसर्जरी या लेजर ट्रीटमेंट की मदद ली जा सकती है.
  • छालों के मामले में एंटी फंगल दवाएं जैसे लिक्विड सॉल्यूशन जिससे कुल्ला और निगला जा सकता है.
  • एंटीवायरल दवाएं अस्थाई रूप से ओरल हर्पस के लक्षणों को निकाल सकते है लेकिन वायरल इंफेक्शन को पूर्णता ठीक नही कर सकते है.
  • कंडीशन की गंभीरता के आधार पर ओरल कैंसर का उपचार किया जाता है.
  • इसके लिए प्रभावित एरिया को हटाने के लिए कीमोथेरेपी या रेडिएशन इस्तेमाल की जाती है. जिससे कैंसर दूसरी जगह न फैले.

घरेलू उपचार

लिप्स पर स्पॉट होने के अलावा इन्हें खुद से न हटाएं. ऐसा करने से इंफेक्शन होने का रिस्क बढ़ जाता है. डॉक्टर की सहमति के साथ लिप्स पर ऑइंटमेंट आदि लगाए जा सकते है. होठों को सूखने से बचाना चाहिए क्योंकि इससे दर्द होने की संभावना रहती है.

इसके अलावा गुनगुने नमक के पानी से कुल्ला करने से आराम मिलता है. आधा चम्मच नमक को गुनगुने पानी में मिलाकर मुंह में रखकर कुल्ला करें.