Select Page

सेब के सिरका के साइड इफेक्ट – apple cider vinegar side effects in hindi

सेब के सिरका के साइड इफेक्ट – apple cider vinegar side effects in hindi

सेब का सिरका एक नैचुरल टॉनिक है जिसके कई उपयोग और हेल्थ बेनेफिट्स होते है. हालांकि, लोगों ने इसकी सुरक्षा और साइड इफेक्टस को लेकर चिंता जाहिर की है. 

आज इस लेख में हम आपको बताने वाले है सेब के सिरका के साइड इफेक्टस के बारे में, साथ ही इसके सुरक्षित उपयोग के बारे में जानकारी लेकिन उससे पहले कि क्या होता है सेब का सिरका.

सेब का सिरका – what is apple cider vinegar in hindi

इसे सेब और यीस्ट को मिलाकर बनाया जाता है. यीस्ट के कारण सेब में मौजूद शुगर अल्कोहोल में बदल जाती है. बैक्टीरिया को मिक्सचर में मिलाया जाता है जिससे अल्कोहोल एसेटिक एसिड में बदल जाती है.

एसेटिक एसिड के अलावा सेब के सिरका में पानी, विटामिन, मिनरल और अन्य एसिड होते है.

काफी सारे अध्ययनों में देखा गया है कि एसेटिक एसिड और सेब के सिरका से फैट बर्न करने और वजन घटाने के साथ ही ब्लड शुगर लेवल कम करने, इंसुलिन संवेदनशीलता बढ़ाने और कोलेस्ट्रोल लेवल बेहतर करने में मदद मिलती है.

एप्पल साइडर विनेगर के 7 साइड इफेक्टस – 7 side effects of apple cider vinegar in hindi

ज्यादा डोज़ में लेने पर सेब के सिरका के साइड इफेक्ट हो सकते है. इसे कम मात्रा में लेने पर इसके लाभ उठाए जा सकते है लेकिन ज्यादा मात्रा हानिकारक और खतरनाक हो सकती है.

दांतों की समस्या

  • एसिड वाले फ़ूड्स और ड्रिंक्स को दांतों को नुकसान पहुँचाने के लिए जाना जाता है.
  • सेब के सिरका के एसिडिक गुणों के कारण दांतों के इनेमल को नुकसान होता है.
  • काफी सारे मामलों में देखा गया है कि इससे दांतों के जड़ से टूटने के भी आसार होते है.
  • इसलिए इसे पानी की मात्रा ज्यादा रखकर पीया जाना चाहिए.

पेट का जल्दी से खाली न होना

  • सेब का सिरका लेने से ब्लड शुगर का एक दम से बढ़ना रोका जा सकता है.
  • ऐसा इसलिए होता है क्योंकि इससे ब्लडस्ट्रीम में भोजन का अवशोषण धीमा हो जाता है.
  • इस कारण टाइप 1 डायबीटिज़ वाले लोगों को होने वाली कंडीशन गैस्ट्रोपारेसिस के लक्षण ज्यादा खराब हो सकते है.
  • गैस्ट्रोपारेसिस के दौरान पेट ठीक से काम नही करता है जिससे भोजन पेट में लंबे समय तक रहता है और सामान्य रूप से खाली नही होता है.
  • गैस्ट्रोपारेसिस के लक्षणों जैसे हार्टबर्न, पेट फूलना और मतली हो सकते है.
  • टाइप 1 डायबीटिज़ वाले गैस्ट्रोपारेसिस से पीड़ित रोगियों के लिए भोजन के साथ इंसुलिन का समय चुनौती पूर्ण होता है क्योंकि फ़ूड का पाचन और अवशोषण के बारे में पता नही होता है.

गले में छाले

  • इसके तेज़ एसिडिक गुणों के कारण सीधे रूप से सेवन करने पर गले में बर्न हो सकते है.
  • इसलिए इसका सेवन करने से पहले इसके लाभ व हानि दोनों जानना जरूरी होता है.

पाचन के दुष्प्रभाव

  • सेब का सिरका लेने के कारण बहुत से लोगों को अपच आदि की समस्या हो सकती है.
  • अध्ययनों में देखने को मिला है कि सेब के सिरका और एसेटिक एसिड के गुणों के कारण भूख कम लगती है.
  • साथ ही इससे पेट भरा महसूस करना और कम कैलोरी का सेवन देखने को मिलता है.
  • दिन में 25 ग्राम से अधिक सेब का सिरका सेवन करने वाले लोगों के अनुसार, इससे भूख कम लगती है लेकिन मतली और मुँह का स्वाद खराब बना रहता है.

स्कीन बर्न

  • सीधे त्वचा पर लगाने से छाले आदि हो सकते है.
  • इसका कारण इसमें मौजूद एसिड की अधिक मात्रा होती है.
  • इसलिए इसका उपयोग सावधानी के साथ किया जाना चाहिए.

लो पोटेशियम लेवल और हड्डियों को नुकसान

  • हालांकि, इसको लेकर कोई अध्ययन उपलब्ध नही है लेकिन कुछ मामलों में देखा गया है कि लंबे समय तक ज्यादा डोज़ लेने पर शरीर में पोटेशियम लेवल कम होना और हड्डियों को नुकसान देखने को मिला है.
  • इसमें मौजूद हाई एसिड लेवल के कारण हड्डियों के बनने में परेशानी आती है.

दूसरी दवाओं के साथ इंटरैक्शन

  • डायबीटिज़ से जुड़ी दवाओं – इंसुलिन या इसे कंट्रोल करने वाली दवाओं को सेवन करने वाले लोगों को लो ब्लड शुगर या पोटेशियम लेवल को अनुभव हो सकता है.
  • कुछ डायरूटिक दवाएं – इससे पोटेशियम का लेवल ज्यादा निकल सकते है जिस कारण इसका लेवल कम हो सकता है. इन दवाओं को लेने पर सेब का सिरका नही लेना चाहिए.
  • लैनॉक्सिन – यह दवा ब्लड से पोटेशियम लेवल को कम करती है. इसे सेब के सिराक के साथ लेने से पोटेशियम का लेवल ज्यादा कम हो सकता है.

सेब के सिरका का सुरक्षित सेवन कैसे करें – how to consume apple cider vinegar safely in hindi

कुछ बातों का ध्यान रखकर सेब के सिरका का सेवन कर लाभ उठाया जा सकता है –

  • सीमित मात्रा में लें – कम मात्रा में शुरू करें और अधिकतम 2 चम्मच प्रति दिन से अधिक न लें.
  • मुंह कुल्ला करें – हर बार सेवन के बाद मुंह को साफ पानी से कुल्ला किया जाना चाहिए.
  • गैस्ट्रोपारेसिस होने पर न लें – इससे समस्या बढ़ सकती है, इसे सलाद में निम्न मात्रा में ले सकते है.
  • दांतों का बचाव – सेब के सिरका को कम मात्रा में ज्यादा पानी के साथ लें. 
  • एलर्जी के बारे में पता होना – इससे होने वाली एलर्जी बहुत कम होती है लेकिन एलर्जिक रिएक्शन होने पर तुरंत इसका सेवन बंद करें.

अंत में

एप्पल साइडर विनेगर के कई हेल्थ बेनेफिट्स होते है. लेकिन सावधानी के साथ साइड इफेक्ट की रोकथाम कर इसके लाभ उठाए जा सकते है. इसका सेवन करते समय मात्रा की निगरानी जरूरी होती है. कम मात्रा में सेवन लाभ देता है लेकिन ज्यादा मात्र लेने से नुकसान हो सकता है.