Select Page

अदरक के फायदे – benefits of ginger in hindi

अदरक के फायदे – benefits of ginger in hindi

शरीर और दिमाग के लिए काफी सारे पोषण मूल्यों और बायोएक्टिव कंपाउंड से पूर्ण अदरक के बहुत सारे हेल्थ बेनेफिट्स होते है. भारत में लगभग हर रसोई में उपयोग की जाने वाली अदरक को स्वाद के साथ साथ कई सारी सब्जियों समेत चाय में भी प्रयोग किया जाता है. आज इस लेख में हम आपको बताने वाले है अदरक के फायदे –

अदरक के फायदे – benefits of ginger in hindi

मासिक धर्म दर्द कम करने

  • मासिक धर्म चक्र के दौरान होने वाले दर्द को कम करने में अदरक काफी लाभ देती है.
  • एक अध्ययन के अनुसार पीरियड्स के पहले तीन दिन अदरक के इस्तेमाल से मासिक धर्म का दर्द कम किया जा सकता है.
  • इसे दर्द कम करने में दूसरे दर्द निवारक दवाओं जितना प्रभावी माना जाता है.

मांसपेशियों में दर्द और पीड़ा

  • एक्सरसाइज के बाद होने वाले शारीरिक दर्द को कम करने में अदरक काफी प्रभावी है.
  • रोजाना 11 दिन तक प्रति दिन 2 ग्राम अदरक लेने पर मांसपेशियों का दर्द कम किया जा सकता है.
  • इसका त्वरित असर नही होता है लेकिन रोजाना होने वाले मांसपेशियों के दर्द में आराम मिलता है.

औषधिएं गुण

  • यह हल्दी, इलायची और गंलागल से मिलती जुलती होती है.
  • अदरक की जड़ का उपयोग अधिकतर बार स्पाइस के रूप में किया जाता है.
  • अदरक के इस्तेमाल का इतिहास काफी प्राचीन है.
  • यह पाचन में मदद करने के साथ साथ मतली कम करने, फ्लू और खांसी से लड़ने में मदद करते है.
  • अदरक का उपयोग फ्रेश, सूखाकर, पाउडर, ऑयल या जूस के रूप में किया जाता है.
  • जबकि कुछ प्रोडक्ट में अदरक को प्रोसेस्ड फ़ूड्स और कोस्मेटिक में मिलाया जाता है.
  • सब्जी और चाय आदि में इसका काफी उपयोग होता है.
  • अदरक में मौजूद बायोएक्टिव कंपाउंड का नाम जिनजेरोल होता है जो इसके औषधी गुण के लिए जिम्मेदार होता है.
  • इसमें ताकतवर एंटी-इंफ्लामेटरी और एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव होते है.

मतली का इलाज

  • मतली के इलाज में अदरक को काफी प्रभावी माना जाता है.
  • काफी लंबे समय से अदरक का उपयोग सी सिकनेस उपचार के लिए किया जाता रहा है.
  • अदरक को सर्जरी के बाद उल्टी और मतली के इलाज में भी किया जाता है.
  • साथ ही कीमोथोरेपी ले रहें कैंसर रोगियों में भी उपयोग किया जाता है.
  • प्रेगनेंसी संबंधी मतली जैसे मॉर्निग सिकनेस के इलाज में प्रभावी माना जाता है.
  • अदरक काफी सुरक्षित होती है लेकिन गर्भावस्था में उपयोग से पहले डॉक्टर से सलाह ली जानी चाहिए.

ऑस्टियोआर्थराइटिस के लिए प्रभावी

  • ऑस्टियोआर्थराइटिस एक कॉमन हेल्थ समस्या है.
  • इसमें जोड़ों में होने वाली असामान्यता के लक्षण जैसे जोड़ों में दर्द और कठोरता होती है.
  • एक अध्ययन के अनुसार अदरक, अजवाइन, सीसेम ऑयल आदि को दर्द कम करने और गठिया मरीज़ों में कठोरता कम करने में मदद मिलती है.

ब्लड शुगर और हार्ट रोग रिस्क कम करने

  • अदरक में ताकतवर एंटीडायबिटीक गुण होते है जो ब्लड शुगर को कम करने में मदद करते है.
  • साथ ही इसके नियमित सेवन से हार्ट रोग का रिस्क कम होता है.
  • हालांकि यह अध्ययन छोटे है और इन्हें बड़े पैमाने पर करने की जरूरत है.

बदहज़मी की समस्या

  • क्रोनिक बदहज़मी की समस्या को पेट के ऊपरी हिस्से में असहजता और दर्द बने रहने से समझा जा सकता है.
  • पेट का देरी से खाली होने को बदहज़मी की समस्या के रूप में माना जाता है.
  • अदरक को पेट के जल्दी खाली होने में मदद करने के रूप में समझा जा सकता है.

कैंसर से बचाव

  • सेल्स की असामान्य ग्रोथ को कैंसर के रूप में समझा जा सकता है.
  • अदरक के तत्व को कई प्रकार के कैंसर का इलाज करने के लिए प्रभावी माना जाता है.
  • अदरक को ब्रेस्ट कैंसर, ओवेरियन कैंसर और पेंक्रियाटिक कैंसर के इलाज में काफी प्रभावी माना जाता है.

कोलेस्ट्रोल लेवल कम करने

  • खराब कोलेस्ट्रोल एलडीएल के हाई लेवल के कारण हार्ट रोग का रिस्क बढ़ जाता है.
  • हमारे शरीर के एलडीएल लेवल पर हमारे द्वारा खाएं जाने वाले फ़ूड का असर होता है.
  • एख अध्ययन के अनुसार हाई कोलेस्ट्रोल वाले रोगियों को रोजाना अदरक देने से कोलेस्ट्रोल के लेवल में गिरावट देखने को मिली.
  • अन्य अध्ययन में यह भी देखा यह कोलेस्ट्रोल और ब्लड ट्राइग्लिसराइड्स लेवल को कम करती है.

इंफेक्शन से लड़ने में

  • ताजा अदरक में मौजूद तत्व इंफेक्शन के रिस्क को कम करता है.
  • अदरक अर्क के उपयोग से कई तरह की बैक्टीरिया ग्रोथ को रोका जा सकता है.
  • यह मसूड़ों आदि संबंधी इंफ्लामेटरी रोग जैसे ओरल बैक्टीरिया को कम करने में मदद करता है.
  • ताजा अदरक रेस्पिरेट्री इंफेक्शन के कारण वाले वायरस पर काफी प्रभावी है. 

अल्ज़ाइमर रोग से बचाव

  • अदरक को दिमाग का फंक्शन बेहतर करने में मदद करने के साथ साथ अल्ज़ाइमर रोग से बचाव करने में मदद के लिए जाना जाता है.
  • ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस और क्रोनिक इंफ्लामेशन के कारण एजिंग की प्रक्रिया तेज़ हो जाती है.
  • इसको याद्दाश्त बेहतर करने में मदद करने के रूप में जाना जाता है.
  • ऐसे कई अध्ययन है जिनके अनुसार अदरक के उपयोग से आयु संबंधी भूलने की समस्या में राहत मिलती है.

इसके अलावा किसी अन्य जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से आदि से संपर्क करना चाहिए.