इस लेख में आप जानेंगे बेस्ट प्री वर्कआउट सप्लीमेंट के बारे में –

बेस्ट प्री-वर्कआउट सप्लीमेंट – best pre workout supplement

काफी सारे लोगों के लिए एक्टिव होना और एक्टिव रहना काफी कठिन होता है. इसका मुख्य कारण एनर्जी की कमी होता है.

एक्सरसाइज करने के लिए एनर्जी के एक्स्ट्रा बूस्ट पाने के लिए काफी सारे लोग प्री वर्कआउट सप्लीमेंट लेना पसंद करते है. (जानें – एक्सरसाइज करने के फायदों के बारे में)

हालांकि, बाजार में ऐसे बहुत सारे सप्लीमेंट मौजूद है जिसमें विभिन्न प्रकार की सामग्री होती है. जिस कारण बहुत से लोगों के लिए सही प्री वर्कआउट चुन पाना मुश्किल हो सकता है.

नीचे बताए गए सप्लीमेंट विशेष एक्सरसाइज के प्रकार को टारगेट करते है. इनको पढ़कर आप एक्सरसाइज के आधार पर अपने लिए सही सप्लीमेंट को चुन सकते हैं.

कैफीन

  • कैफीन – कॉफी, चाय और अन्य पेय पदार्थों आदि में मौजूद प्राकृतिक अणु होता है.
  • यह दिमाग के कुछ भागों को उत्तेजित करके आपकी सजगता बढ़ाकर और कम थकान महसूस करवाने में मदद करता है.
  • प्री वर्कआउट सप्लीमेंट में यह काफी पॉपुलर है.
  • एक्सरसाइज में प्रदर्शन को बेहतर करने के काफी सारे पहलुओं में कैफीन को प्रभावी माना जाता है.
  • इसे क्षमता को बढ़ाने या तेजी से विकसित करने की क्षमता के लिए जाना जाता है.
  • जो अलग प्रकार की एक्सरसाइज जैसे स्प्रींटिंग, वेट ट्रेनिंग और साइकिलिंग पर लागू होता है.
  • स्टडी के दौरान देखने को मिला है कि इससे लंबे समय तक प्रदर्शन करने वाली एक्टिविटी जैसे रनिंग और साइकिलिंग आदि में क्षमता बेहतर होती है.
  • इसके अलावा इसकी डोज़ आपके शरीर के वजन के आधार पर भिन्न होती है जो विशेषज्ञ से सलाह लेकर जाननी चाहिए.
  • कैफीन के सेवन से थोड़े समय के लिए ब्लड प्रेशर बढ़ना और बेचैनी हो सकती है.
  • इसका सेवन दिन की शुरुआत में करें क्योंकि शाम को या रात के समय लेने से इसके एंटी स्लीप प्रभाव होते है.

बीसीएए

  • यह एक एमिनो एसिड होता है जो कई प्रोटीन में हाई मात्रा जैसे फ़ूड्स, खासकर जानवरों के प्रोडक्ट में मिलता है.
  • आमतौर पर इसका उपयोग मांसपेशी बनाने के प्रभावों के लिए किया जाता है.
  • मांसपेशी बनाने के लिए यह साबुत प्रोटीन से कम प्रभावी होता है.
  • अच्छी गुणवत्ता वाला हाई प्रोटीन डेयरी, अंडा, दूध में मिलता है जो मांसपेशी ग्रोथ को सपोर्ट करता है.
  • साथ ही इसमें शरीर के लिए जरूरी सभी एमिनो एसिड होते है.
  • बीसीएए लेने के कई बेनिफिट्स होते है. अध्ययन के अनुसार, यह दौड़ने की क्षमता के प्रदर्शन को बेहतर करने में मदद करता है.
  • इसके अलावा बीसीएए सप्लीमेंट लेने से मानसिक और शारीरिक थकान को कम करने में मदद मिलती है.
  • कुछ रिसर्च के अनुसार, यह सप्लीमेंट वेट ट्रेनिंग या रनिंग के बाद मांसपेशियों की सूजन को कम करने मददगार होती है.

सिट्रुलिन

  • शरीर में नैचुरल रूप से बनने वाला एमिनो एसिड सिट्रुलिन है.
  • हालांकि, भोजन या सप्लीमेंट से सिट्रुलिन का सेवन करने से शरीर में इसके लेवल बढ़ सकते है.
  • यह बढ़े हुए लेवल एक्सरसाइज प्रदर्शन के लिए लाभदायक होते है.
  • सिट्रुलिन के प्रभावों में से एक शरीर के टिश्यू तक ब्लड फ्लो को बढ़ाना है.
  • एक्सरसाइज के संदर्भ में, इस सप्लाई से मांसपेशियों तक ज्यादा ऑक्सीजन और पोषण पहुंचता है जिससे प्रदर्शन बेहतर होता है.
  • सिट्रुलिन लेने से एक्सरसाइज के बाद होने वाली मांसपेशी सूजन को कम करने में मदद मिलती है.

नाइट्रेट

  • यह पालक, शलजम, चुकंदर जैसी सब्जियों में पाए जाने वाला अणु है.
  • इसकी छोटी मात्रा शरीर द्वारा खुद ही बनाई जाती है.
  • एक्सरसाइज प्रदर्शन के लिए नाइट्रेट काफी जरूरी है क्योंकि यह अणु को नाइट्रिक ऑक्साइड में बदल देता है जो ब्लड फ्लो को बढ़ाता है.
  • आप स्पोर्ट्स सप्लीमेंट के रूप में चुकंदर के जूस का सेवन कर सकते है.
  • अध्ययन के अनुसार, चुकंदर के जूस का सेवन करने से दौड़ने का समय बढ़ सकता है.
  • सब्जियों के जूस का सेवन करना सुरक्षित रहता है.

बीटा एलानीन

  • यह एक एमिनो एसिड होता है जो मांसपेशियों की थकान से लड़ने में मदद करता है.
  • तीव्र एक्सरसाइज के दौरान शरीर में एसिड बनना शुरू हो जाता है जिससे बीटा एलानिन एसिड से लड़ने में मदद करता है.
  • बीट एलानिन को सप्लीमेंट के रूप में सेवन करने से शरीर का एक्सरसाइज प्रदर्शन बेहतर होता है.
  • विशेष रूप से यह सप्लीमेंट तीव्र एक्सरसाइज के दौरान प्रदर्शन को बेहतर करने में मदद करता है.
  • एक मिनट तक की जाने वाली एक्सरसाइज आदि में यह ज्यादा प्रभावी नहीं है. (जानें – नंगे पैर चलने के बारे में)
  • इसकी 4 से 6 ग्राम की डोज को सुरक्षित माना जाता है. जबकि हाई डोज के साइड इफेक्ट भी हो सकते है.

सोडियम बाईकार्बोनेट

  • इसे बेकिंग सोडा के रूप में भी जाना जाता है.
  • यह शरीर में एसिड के बनने के खिलाफ काम करता है.
  • एक्सरसाइज की बात करें तो सोडियम बाईकार्बोनेट की मदद से एक्सरसाइज के दौरान थकान और मांसपेशियों में जलन को कम किया जा सकता है.
  • एक्सरसाइज के दौरान मांसपेशियों की जलन, ईशारा होता है कि एक्सरसाइज की तीव्रता के कारण एसिड बन रहा है.
  • कई अध्ययनों में देखने को मिला है कि रनिंग, साइकिलिंग आदि के दौरान सोडियम बाईकार्बोनेट के लाभ कम होते है.
  • इस सप्लीमेंट का मुख्य उपयोग तीव्र गतिविधि के कारण होने वाली मांसपेशी उत्तेजना में लाभ देना होता है.
  • सोडियम बाईकार्बोनेट को बेकिंग सोडा या सप्लीमेंट के रूप में लिया जा सकता है.
  • इसके सामान्य साइड इफेक्ट में पेट खराब होना शामिल है.
  • नमक के प्रति संवेदनशील होने पर डॉक्टर से सलाह के बाद इसका उपयोग करना चाहिए.

क्रिएटिन

  • क्रिएटिन सेल्स में पाए जाने वाला एक अणु होता है. जो काफी पॉपुलर डाइटरी सप्लीमेंट है.
  • काफी स्पोर्ट्स वैज्ञानिकों द्वारा ताकत और क्षमता को बढ़ाने के लिए क्रिएटिन को बेस्ट माना जाता है.
  • रिसर्च के अनुसार, यह सुरक्षित रूप से मांसपेशियों के मास को बढ़ाने, ताकत और एक्सरसाइज प्रदर्शन में सुधार करने में मदद करता है.
  • अध्ययनों के अनुसार, क्रिएटिन लेने वाले लोगों में इसका सेवन न करने वालों की तुलना में वेट ट्रेनिंग से ताकत में सुधार अधिक देखने को मिलता है.
  • ऐसा इसलिए क्योंकि सेल्स के भीतर एनर्जी बनाने में क्रिएटिन अहम भूमिका अदा करता है.
  • एक्सरसाइज के दौरान मांसपेशियों के सेल्स में अधिक एनर्जी होने पर आपको बेहतर प्रदर्शन और समय के साथ अच्छी मूवमेंट का अनुभव देखने को मिलता है. (जानें – ग्रोइन दर्द के बारे में)
  • मांसपेशियों की ताकत बढ़ाने की बात करें तो क्रिएटिन आपके द्वारा चुने जाने वाला पहला सप्लीमेंट हो सकता है.
  • इसकी डोज़ आदि जानने के लिए विशेषज्ञ से सलाह लेकर जानकारी ली जानी चाहिए.

प्री-वर्कआउट सप्लीमेंट को एक्सरसाइज के आधार पर चुनना चाहिए

  • प्री वर्कआउट सप्लीमेंट को चुनने से पहले आपको पता होना चाहिए कि आपके द्वारा की जाने वाली एक्सरसाइज का लक्ष्य क्या है.
  • दूसरे शब्दों में कहे तो सप्लीमेंट को आपके वर्कआउट के आधार पर चुना जाना चाहिए.
  • मुख्यता, प्री वर्कआउट सप्लीमेंट में मौजूद सामग्री एक्सरसाइज प्रदर्शन के विशेष पहलुओं को बेहतर करता है. (जानें – वर्कआउट के बाद क्या खाएं)
  • कुछ सामग्री आपकी ताकत या क्षमता को बढ़ाते है जबकि अन्य सहनशक्ति को बूस्ट करते है.

अंत में

प्री वर्कआउट सप्लीमेंट में मौजूद प्रत्येक सामग्री पर विस्तृत अध्ययन किए गए है. लेकिन अधिकांश पहले से पैक सप्लीमेंट को वैज्ञानिक दृष्टिकोण का मूल्यांकन नहीं हुआ है. (जानें – प्री वर्कआउट के साइड इफेक्ट के बारे में)

इस लेख के आधार पर आपको कुछ मुख्य सामग्री बताई गई है जिसे आप जान सकते है. कुछ प्रकार की एक्सरसाइज और विशेष खेलों में ऊपर बताए गई सामग्री को मिलाकर उपयोग किया जाता है. इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए विशेषज्ञों से बात कर जानकारी लेनी चाहिए.

References –

 

Share: