Select Page

गाजर जूस के फ़ायदे – carrot juice benefits

गाजर जूस के फ़ायदे – carrot juice benefits

गाजर से निकाले जाने वाला जूस जो पोषक तत्वों में पूर्ण होता है. यह न केवल पोटेशियम और विटामिन सी बल्कि प्रोविटामिन ए का भी अच्छा सोर्स होता है. (जानें – आंखों की सूजन को दूर कैसे करें)

गाजर का जूस पीने से इम्यूनिटी बूस्ट होने के साथ साथ स्किन, आंखों समेत कई लाभ मिलते है. आज इस लेख में हम आपको बताने वाले है ऐसे ही कुछ गाजर के जूस के फ़ायदों के बारे में –

गाजर के जूस के फ़ायदे – carrot juice benefits

इम्यूनिटी बूस्ट करने

  • गाजर जूस के सेवन से इम्यून सिस्टम को बूस्ट मिलता है.
  • इसमें मौजूद विटामिन ए और विटामिन सी एंटीऑक्सिडेंट का काम करके इम्यून सेल्स को फ्री रेडिकल्स के नुकसान से बचाते है.
  • गाजर का जूस विटामिन बी6 का अच्छा सोर्स भी होता है जो इसकी कमी को दूर करता है.

लिवर का बचाव

  • गाजर के जूस में मौजूद केरोटैनॉइड बेहतर लिवर हेल्थ को बढ़ावा देते है.
  • कई अध्ययनों में देखने को मिला है कि कि इसमें एंटी इंफ्लामेटरी और एंटीऑक्सिडेंट प्रभाव होते है.
  • यह प्रभाव नॉन अल्कोहॉलिक फैटी लिवर रोग से बचाव करते है.
  • नॉन अल्कोहॉलिक फैटी लिवर रोग – लिवर पर फैट के जमा होने के कारण होता है.
  • इसके होने का कारण मोटापा, अधिक वजन होना, खराब डाइट हो सकते है.
  • जिस कारण लिवर संकुचन और नुकसान हो सकता है.

ब्लड शुगर को कंट्रोल करने

  • थोड़ी थोड़ी मात्रा में गाजर का जूस पीने से ब्लड शुगर लेवल को कम करने में मदद मिलती है.
  • चूहों पर हुए अध्ययनों में देखने को मिला है कि टाइप 2 डायबिटीज वाले चूहों पर गाजर का रस उपयोग करने पर ब्लड शुगर लेवल और अन्य ब्लड मार्कर बेहतर पाए गए.
  • ऐसा इसलिए क्योंकि गाजर के जूस में प्रोबायोटिक्स होते है जो जरूरी बैक्टीरिया होता है.
  • यह डायबिटीज से जुड़े हुए आंतों के बैक्टीरिया को प्रभावित करता है.
  • गाजर के रस में लो ग्लाइसैमिक इंडैक्स होता है जिससे डायबिटीज वाले लोगों को ब्लड सुगर लेवल मैनेज करने में मदद मिलती है. 

पोषक तत्वों में पूर्ण

  • गाजर के जूस में लो कैलोरी और कार्ब्स होते है.
  • इसके अलावा यह प्रोटीन, फैट, विटामिन सी, फ़ाइबर, शुगर, कार्ब्स, विटामिन ए, पोटेशियम, विटामिन के होता है.
  • गाजर के जूस में एंटीऑक्सिडेंट होते है जो मुक्त कणों से लड़ने में मदद करते है.
  • गाजर में मौजूद बीटा कैरोटिन गाजर के रंग के लिए जिम्मेदार होता है.
  • इसका सेवन करने से एंटीऑक्सिडेंट विटामिन ए में बदलता है.

बेहतर स्किन के लिए

  • गाजर में मौजूद तत्व स्किन की हेल्थ को लाभ प्रदान करते है.
  • गाजर के जूस में मौजूद विटामिन सी कॉलेजन प्रोडक्शन के लिए जरूरी तत्व होता है.
  • जो न सिर्फ स्किन को मजबूत करने बल्कि लचीलापन भी उपलब्ध कराता है.
  • इसके अलावा विटामिन सी एंटीऑक्सिडेंट के रूप में काम करके स्किन को फ्री रेडिकल्स से बचाता है.
  • एक अध्ययन के अनुसार गाजर में मौजूद बीटा कैरोटिन स्किन को यूवी रेज से होने वाले नुकसान से बचाता है. (जानें – हेल्दी स्किन के लिए फ़ूड्स)
  • साथ ही स्किन के दिखने को बेहतर करता है.

एंटीकैंसर प्रभाव

  • टेस्ट ट्यूब अध्ययनों में देखने को मिला है कि गाजर में मौजूद कुछ विशेष कंपाउंड कैंसर से बचाव करते है.
  • गाजर के रस में मौजूद लूटीन, बीटा कैरोटीन, पॉलियासिटाईलिन्स मानव ल्यूकेमिका सेल्स पर प्रभावी होते है.
  • एक टेस्ट ट्यूब अध्ययन में देखा गया है कि ल्यूकेमिया सेल्स का इलाज करने में गाजर के रस ने प्रभावी गुण दिखाएं है. इसके दौरान कैंसर सेल्स की मृत्यु और सेल्स की ग्रोथ बंद पायी गई.
  • हालांकि, अभी अधिक अध्ययन की जरूरत है और गाजर को कैंसर के इलाज के रूप में उपयोग नहीं किया जाना चाहिए.

अच्छी हार्ट हेल्थ के लिए

  • गाजर का जूस हार्ट रोग के रिस्क को कम करता है.
  • यह पोटेशियम का अच्छा सोर्स होता है, जो शरीर में सही ब्लड प्रेशर बनाए रखन के लिए जरूरी मिनरल में से एक है.
  • हाई पोटेशियम डाइट का सेवन हाई ब्लड प्रेशर और स्ट्रोक से बचाव करने में मदद करता है.
  • गाजर के रस के तत्व हार्ट के लिए लाभदायक होते है.

आंखों की हेल्थ को अच्छा करने

  • गाजर में जूस में मौजूद पोषक तत्व आंखों को लाभ देता है.
  • आंखों की हेल्थ के लिए विटामिन ए काफ़ी जरूरी होता है.
  • कई अध्ययनों में देखने को मिला है कि प्रोविटामिन ए वाले फल और सब्जियों का सेवन आयु संबंधी आंखों का रोग और अंधापन का रिस्क कम होता है.
  • गाजर में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट आयु संबंधी मैकुलर डिजनरेशन जैसे आंखों की समस्या के रिस्क को कम करता है.

गाजर के जूस से जुड़ी सावधानियां

  • अधिकतर लोगों के लिए गाजर का जूस काफी सुरक्षित होता है लेकिन कुछ सावधानियां दिमाग में रखी जानी चाहिए.
  • फ्रैश बने गाजर के जूस खतरनाक बैक्टीरिया को मारने के लिए पाश्चुरीकृत नहीं होता है.
  • कमडोर इम्यून सिस्टम, गर्भवती महिलाएं, अधिक आयु वाले लोग को गैर पाश्चुरीकृत गाजर के सेवन से बचना चाहिए.
  • शरीर में ज्यादा बीटा कैरोटिन के कारण पीली संतरी जैसी हो सकती है जो गाजर के अधिक सेवन के कारण होता है.
  • गाजर के जूस में फाइबर की मात्रा कम होती है, जबकि इसमें अतिरिक्त शुगर मिलाकर गाजर के जूस को पीने से ब्लड शुगर लेवल तेजी से बढ़ सकता है.

अंत में

गाजर का जूस काफी अधिक पोषण से पूर्ण होता है जिसमें कई कैरोटेनॉइड समेत विटामिन ए, विटामिन सी और विटामिन के होता है.

इसके सेवन से आंखों के स्वास्थ, इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने और स्किन को मजबूत करता है. हालांकि, इंसानों पर अधिक रिसर्च की जरूरत है.

References –

 

Share:

About The Author

Kartik bhardwaj

Hi, I have an experience of more than 6 years Ex - Tangerine(To the New), DD News, ABP News, RSTV, Express Magazine and Lybrate Inc.