इस लेख में आप जानेंगे पलक फड़कने के कारण, जटिलताएं, डॉक्टर से कब मिलें, इलाज और बचाव –

आंखों की पलक क्यों फड़कती है – what is eyelid twitching?

  • पलक फड़कना या मायोकेमिया, बार बार पलक की मांसपेशियों का दोहराव और अनैच्छिक ऐंठन होती है.
  • आमतौर पर आंख की ऊपरी पलक पर फड़कना होता है लेकिन यह पलकों के दोनों हिस्सों पर हो सकती है.
  • ज्यादातर लोगों के लिए, ये ऐंठन बहुत हल्के होते हैं और पलक पर एक कोमल टग की तरह महसूस होते हैं. (जानें – आंखों के लिए जरूरी विटामिन)
  • दूसरों को एक ऐंठन का अनुभव हो सकता है जो दोनों पलकों को पूरी तरह से बंद करने के लिए मजबूर करता है. जिसे ब्लेफरोस्पाज्म कहा जाता है.
  • ऐंठन आमतौर पर एक या दो मिनट के लिए हर कुछ सेकंड में होती है.
  • पलक फड़कने के एपिसोड अप्रत्याशित होते हैं जो कई दिनों तक आते जाते रह सकते है.
  • इसके बाद हो सकता है कि आपको पलक फड़कना कुछ हफ्तों या महीनों तक महसूस न हो.
  • हालांकि पलक फड़कने पर कोई दर्द या नुकसान नहीं होता है लेकिन आपको असहज महसूस हो सकता है.
  • अधिकतर पलक फड़कना अपने आप बिना किसी इलाज के ठीक हो जाते है.
  • रेयर मामलों में पलक फड़कना किसी क्रोनिक मूवमेंट डिसऑर्डर के शुरूआती संकेत होते है.
  • ऐसा खासकर पलक फड़कने के मामलों के साथ में चेहरे फड़कना या अनियंत्रित मूवमेंट होने पर होता है.

आंखों की पलक फड़कने के कारण क्या होते है – what causes eyelid twiches?

  • पलक फड़कना बिना देखे जाने योग्य कारण के भी हो सकता है.
  • हालंकि, बहुत ही रेयर मामलों में यह किसी गंभीर समस्या का कारण होता है इसलिए कारणों को नज़रअंदाज कर दिया जाता है. (जानें – गुहेरी के बारे में)
  • आंखों में जलन, थकान, नींद पूरी न होना, तनाव, दवाओं के साइड इफेक्ट, पलकों पर तनाव, कैफीन, शराब या तंबाकू के इस्तेमाल से पलक फड़कने के कारण या खराब हो सकते है.
  • पलक फड़कने के क्रोनिक होने पर इसे ब्लेफरोस्पाज्म कहा जाता है.
  • यह कंडीशन दोनों आंखों को प्रभावित करती है और महिलाओं में ज्यादा आम है.

निम्न कंडीशन में फड़कना खराब हो सकता है –

  • थकान
  • ड्राई आंखें
  • पलकों की सूजन
  • स्मोकिंग
  • वातावरण कारणों जैसे हवा, तेज़ लाइट, सूर्य आदि
  • लाइट के प्रति संवेदनशीलता
  • तनाव
  • अधिक शराब का सेवन
  • कैफीन ज्यादा पीने
  • धुंधली दृष्टि
  • चेहरा फड़कना

पलक फड़कने से जुड़ी जटिलताएं – what are the complications of eyelid twiches?

  • रेयर मामलों में पलक की ऐंठन अधिक गंभीर मस्तिष्क या तंत्रिका विकार का एक लक्षण है.
  • जब पलक फड़कना इन अधिक गंभीर परिस्थितियों का परिणाम होते हैं, तो वे लगभग हमेशा अन्य लक्षणों के साथ होते हैं.

मस्तिष्क और नर्व डिसऑर्डर जो पलक फड़कने का कारण हो सकते हैं उनमें निम्न शामिल हैं –

  • फेशियल पाल्सी – यह कंडीशन चेहरे के एक तरफ नीचे की ओर फड़कना होता है.
  • मल्टीपल स्कलैरोसिस – यह सेंट्रल नर्वस सिस्टम का रोग होता है जिसके कारण कॉग्नेटिव और मूवमेंट समस्या जैसे थकान होती है.
  • डिस्टॉनिया – इस कंडीशन में अनचाहे रूप से मांसपेशी फड़कना होता है.
  • पार्किंसन रोग – बोलने में परेशानी, संंतुलन समस्या, मांसपेशियों की कठोरता आदि शामिल होते है.
  • अगर आपको कोई आंखों में चोट आदि है तो तुरंत डॉक्टर से मिलकर जांच करवानी चाहिए.

डॉक्टर से कब मिलें

  • आपातकालीन चिकित्सा उपचार की आवश्यकता के लिए पलक फड़कना काफी गंभीर हैं.
  • हालांकि, पुरानी पलक की ऐंठन अधिक गंभीर मस्तिष्क या तंत्रिका तंत्र विकार का एक लक्षण हो सकता है.

इस कंडीशन के साथ निम्न लक्षण होने पर तुरंत डॉक्टर से सहायता लें –

  • आंख के लाल होने, सूजन या डिस्चार्ज होना
  • ऊपरी पलक का लटकना
  • फड़कने का कुछ हफ्तों तक जारी रहना
  • पलक फड़कने का असर चेहरे पर होना

पलक फड़कने का इलाज – how are eyelid twiches treated?

  • अधिकतर पलक फड़कना कुछ दिनों या हफ्तों में ठीक हो जाते है.
  • अपने आप ठीक न होने पर हटाया या कम किया जा सकता है.
  • सबसे आम कारणों में तनाव, थकान और कैफीन शामिल है.
  • इसमें आराम पाने के लिए कैफीन का सेवन कम करें.
  • पूरी नींद लें, आंखों के सर्फेस को लूब्रिकेट रखें.
  • पलक फड़कना शुरू होने पर हल्की गर्म सिकाई करें.
  • ब्लेफरोस्पाज्म के इलाज में बोटॉक्स का इस्तेमाल भी किया जाता है जो कुछ महीनों के लिए राहत दे सकता है.
  • इंजेक्शन का असर कम होने पर अन्य इंजेक्शन की जरूरत पड़ सकती है.
  • इसके अलावा ब्लेफरोस्पाज्म के मामलों में सर्जरी की जा सकती है.

पलक फड़कने का बचाव कैसे होता है – how can you prevent eyelid twiches?

  • आंखों की पलकों का नियमित रूप से फड़कने पर नोट करके लिख लें कि यह कितनी बार हुआ.
  • कैफीन तम्बाकू, और अल्कोहल के अपने सेवन पर ध्यान दें. 
  • साथ ही तनाव का लेवल, पलक फड़कने के दौरान आपके कितनी नींद आती है आदि देखा जाता है.
  • यदि आप ध्यान दें कि जब आप पर्याप्त नींद नहीं ले रहे हैं तो आपके पास अधिक ऐंठन है, तो अपनी पलकों पर तनाव कम करने और अपनी ऐंठन को कम करने में मदद करने के लिए 30 मिनट पहले एक घंटे पहले बिस्तर पर जाने की कोशिश करें. (जानें – आंखों में तेज़ दर्द होने पर क्या करें)

अंत में

आंखों की पलक फड़कने के कई कारण होते है. इलाज एक से दूसरे व्यक्ति पर अलग होता है. अगर आपको किसी कंडीशन के कारण पलक फड़कना होता है तो उसका इलाज इस समस्या से राहत पाने के लिए जरूरी है.

 

References –

  • mayoclinic.com/health/dystonia/DS00684
  • mayoclinic.com/health/eye-twitching/MY00102
  • ghr.nlm.nih.gov/condition/benign-essential-blepharospasm
Share: