Select Page

गुस्सा कंट्रोल कैसे करें – how to control anger in hindi

गुस्सा कंट्रोल कैसे करें – how to control anger in hindi

गुस्से पर कैसे कंट्रोल करें – gussa control kaise kare in hindi

हमारे अंदर कई तरह की भावनाएं होती है जिसमें से गुस्सा एक है. गुस्सा सकारात्मक भी हो सकता है जिससे घर या बाहर की कई जटिल समस्याओं का समाधान किया जा सकता है.

लेकिन गुस्से का लगातार और अधिक होना कई तरह की समस्याओं जैसे लड़ाई झगड़ा, उग्र व्यवहार आदि स्थितियों को पैदा कर सकता है.

गुस्सा कंट्रोल करने के तरीके – gussa control karne ke tarike

आज इस लेख में हम आपको बताने वाले है गुस्सा कंट्रोल करने के तरीके –

गहरी सांस लेना

  • जैसे ही हमारे अंदर गुस्से की प्रवृति बढ़ती है वैसे ही हमारा सांस लेना तेज़ हो जाता है.
  • ऐसे में खुद को शांत करने के लिए सांस को धीरे लेना
  • गहरी सांस लेना और
  • नाक से सांस लेकर, मुंह से सांस छोड़ना किया जा सकता है.

गिनती करना

  • गिनती गिनने से गुस्सा कम होता है इसलिए 10 तक गिनती गिनना किया जा सकता है.
  • अगर आपको ज्यादा ही गुस्सा आ रहा है तो आप 100 तक गिनती गिन सकते है इससे हार्ट रेट स्लो होगा और गुस्सा कम होगा.

एक्सरसाइज करना

  • एक्सरसाइज करने से हमारी नसे शांत होती है और गुस्सा कम होता है.
  • इसके लिए आप वाल्क करने या कुछ स्पोर्ट एक्टिविटी कर सकते हैं.
  • इसके अलावा कोई भी ऐसी शारीरिक एक्सरसाइज जिससे दिमाग और शरीर को आराम मिले करना चाहिए.

किसी मंत्र का जाप कर सकते है

  • ऐसे बहुत से लोग होते है जो किसी मंत्र या किसी वाक्य को पढ़ने से शांत महसूस करते है.
  • जब भी गुस्सा आए तो ऐसे ही मंत्र का जाप करें.

किसी शांत जगह जाएं

  • आप किसी शांत कमरे में नींद ले सकते हैं.
  • शांत जगह पर जाकर मेडिटेशन कर सकते हैं.
  • इसके अलावा आंख बंद कर सुकून देने वाले स्थानों को इमेजिन कर सकते है.

कोई धुन या संगीत सुनना

  • संगीत को एक प्रकार की थेरेपी भी कहा जा सकता है.
  • इसे आप अपनी गाड़ी या कान में हेडफ़ोन लगाकर भी सुन सकते है.
  • इससे गुस्सा कम होने में काफी मदद मिलती है.

चुप हो जाएं

  • काफी गुस्सा होने पर हो सकता है कि आप कुछ गलत बोल दें.
  • इसलिए बेहतर है कि बिना किसी को दुख पहुँचाए चुप रहें.
  • चुप रहने से आपको सोचने का अधिक समय मिलेगा.

खुद को ब्रेक दें

  • अकेले में थोड़ा समय बिताऐं.
  • इससे आपको अपने इमोशन पर कंट्रोल करने का मौका मिलेगा.
  • इसे रोज़ाना के रूटीन में डालने से काफी मदद मिलती है.

लिख सकते है

  • अपने इमोशन पर नियंत्रण करने का सबसे बेहतर तरीका है कि आप उन्हें लिखें.
  • लिखने से आपको राहत महसूस होगी.
  • इसके अलावा दूसरों के बारे में कुछ अच्छा लिखें.
  • ऐसा करने से आपकी एनर्जी और इमोशन को किसी प्रोडक्टिव और हेल्दी चीज़ में लगाने का मौका मिलेगा.

अपने रूटीन में बदलाव

  • अगर आपको काफी अधिक गुस्सा आता है तो आप एक नया रूटीन बना सकते है.
  • इससे काफी फायदा होगा.

दोस्त से बात कर सकते है

  • ऐसी बातों को दिल से न लगाए जो आपको गुस्सा दिलाती है.
  • ऐसे में आप अपने किसी विश्वास पात्र या किसी खास दोस्त से बात कर सकते हैं.

हंसना

  • खराब मूड को अच्छा करने के लिए आप जोर जोर से हंस सकते हैं.
  • इसके लिए आपको इंटरनेट पर बहुत कुछ मिल सकता है.
  • अगर आपकी फैमिली है तो आप बच्चों के साथ बात करके हंस सकते है.

फोकस करने की कोशिश

  • जानने की कोशिश करें कि जब सभी को गलत लग रहा है तो ऐसे में सही क्या है.
  • कुछ चीज़ों के पता होने पर आप गुस्से पर बेहतर काबू कर सकते हैं.

टाइमर सेट करें

  • गुस्से का सबसे बड़ा नुकसान होता है कि आप कुछ ऐसी बातें बोलते है जो नही बोलनी चाहिए.
  • इसलिए बोलने से पहले थोड़ा समय लें.
  • समय लेने से आपको शांत होने और बेहतर समझने का समय मिलेगा.

लोगों को माफ करना

  • ऐसा करने में समय लग सकता है लेकिन इससे इमोशन पर काबू करने में काफी सहायता मिलती है.
  • अगर आप माफ नही भी करते है तो आप बैठकर माफ कर देने का दिखावा भी कर सकते है.
  • ऐसा करने से गुस्सा कंट्रोल करने में मदद मिलती है.

दूसरों के प्रति सहानुभूति

  • आप खुद को दूसरे की स्थिति में रखकर सोचे, जिससे आपको उनका नज़रिया जानने का मौका मिलेगा.
  • इससे आप उस इंसान को समझने और उसके नज़रिये को बेहतर रूप से जान पाएंगे.
  • साथ ही इससे आप गुस्से पर काबू पा सकते है.

अपनी भावनाएं व्यक्त करना

  • जब तक आप सही रूप से हैंडल कर रहे है तब तक अपनी भावनाएं व्यक्त करना गलत नही है.
  • लेकिन बेकाबू होकर कुछ भी फूटने से कोई हल नही निकलता है.
  • इसलिए समझदारों की तरह बात करने से तनाव और गुस्सा कम होता है.

कुछ क्रिएटिव वर्क करना

  • अपने गुस्से को किसी प्रकार के प्रोडक्शन में बदल सकते है.
  • जिसके लिए आप पेंटिंग करना या कविता आदि लिखना भी कर सकते है.
  • ऐसा करने से आप अपनी भावनाएं उनके जरिए व्यक्त कर पाएंगे.

अंत में

गुस्सा भी किसी दूसरे इमोशन की ही तरह है जिसका अनुभव हर किसी को अलग होता है. वहां अगर यह किसी दूसरे को अपनी बातों या उग्र व्यवहार से ठेस पहुंचाने लगे तो इसे काबू करने का कोई तरीका निकालना चाहिए.

अगर ऊपर बताई गई टिप्स से आपको कोई मदद नही मिलती है तो आप डॉक्टर से सलाह ले सकते हैं.