Select Page

कमर के निचले हिस्से में दर्द के घरेलू उपाय – lower back pain home remedies in hindi

कमर के निचले हिस्से में दर्द के घरेलू उपाय – lower back pain home remedies in hindi

आज के आधुनिक समय में बैठ रहने वाली लाइफ़स्टाइल के कारण लोगों में पीठ दर्द की समस्या काफी आम है. यह न केवल आपकी सारी ऊर्जा को निकाल सकता है बल्कि आपको अपने दैनिक काम करने से रोक सकता है.

इसलिए, यह बहुत महत्वपूर्ण है कि आप अपने कमर दर्द को इग्नोर बिल्कुल भी न करें. इसका समय से इलाज काफी आराम देता है. आज इस लेख में हम आपको बताने वाले है कमर के निचले हिस्से में दर्द के घरेलू उपाय –

कमर के निचले हिस्से में दर्द के घरेलू उपाय – lower back pain home remedies in hindi

गर्म रहें

  • वात्त दोष की मौलिक विशेषताओं में से एक यह है की यह ठंडा होता है.
  • यही कारण है कि, किसी भी बिंदु पर आप कुछ ठंड के संपर्क में आते हैं या यहां तक कि ठंडे खाद्य पदार्थों या पेय पदार्थों का उपभोग करते हैं, तो आपके कमर में दर्द बढ़ने लगता है.
  • सर्दियों के दौरान, यह दर्द उत्तेजित हो जाता है और आपको अपनी रोजमर्रा की गतिविधियों को करने से रोकता है.
  • इसलिए आपको गर्म रहना बहुत महत्वपूर्ण है. इसके लिए, आप या तो गर्म बेल्ट डाल सकते हैं या अपने निचले हिस्से में गर्म बाम से मालिश करवा सकते हैं.

एक्सरसाइज

  • पीठ के निचले हिस्से में दर्द वाले लोगों के लिए मांसपेशियों को मजबूत बनाना, भविष्य में दर्द से बचाव करता है.
  • इसके लिए कुछ एक्सरसाइज जैसे योग, फ्लैट ग्राउंड पर चलना, खड़े होकर पीछें की ओर झुकना आदि किया जा सकता है.
  • ऐसा करने से शरीर की मांसपेशियों में लचीलापन आता है.
  • जिससे कमर में कठोरता के कारण होने वाला दर्द कम हो जाता है.
  • नियमित रूप से एक्सरसाइज और योग करने से कमर दर्द में आराम के साथ साथ मांसपेशियों को मजबूत बनाने में मदद मिलती है.   

गर्म भोजन खाएं

  • ठंडे खाद्य और पेय पदार्थ वात्त दोष को बढ़ाते है जिससे दर्द ज्यादा होता है.
  • शीतलता आपके निचले हिस्से को कड़ा कर देती है और कुछ शरीर के अंगों और क्षेत्रों के बंद होने का कारण बनती है.
  • जबकि गर्मी की उपयुक्त मात्रा से राहत मिलती है जिससे शरीर में स्मूथ बाउल मूवमेंट करने में मदद मिलती है..
  • यह कब्ज से आने वाले दर्द से छुटकारा पाने में भी मदद करता है.

पादहस्तासन का अभ्यास करें

  • पादहस्तासन (फॉरवर्ड-ओवरले स्टेंस) पीठ दर्द के लिए एक अविश्वसनीय योग मुद्रा है,
  • विशेष रूप से इस आधार पर कि यह वात्त दोष को शरीर के माध्यम से स्ट्रीम करने की अनुमति देता है, मल-संदेश चैनलों के अवरोध को मिटा देता है जो कब्ज और पीठ के निचले हिस्से में दर्द का कारण बनता है.

दर्द को कम करने के लिए ऑयल और ऑइंटमेंट

  • बाजार में आपको बहुत सारे ओटीसी ऑइंटेमेंट मिल सकते है जिनको मलने से दर्द में राहत मिलती है.
  • अगर ऑयल की बात करें तो शरीर में दर्द होने पर सरसों, ऑलिव ऑयल, नारियल तेल आदि को हल्का से गुनगुना कर दर्द वाले स्थाने पर मसाज करने राहत मिलती है. 
  • वहीं शरीर पर तेल लगाने से शरीर के सभी हिस्सों को खोलने में मदद मिलती है और रक्त प्रवाह में वृद्धि होती है.
  • आप दो ऑयल को मिलाकर भी मसाज कर सकते हैं.

अजवायन की चाय पीएं

  • अजवायन का सीड व्यावहारिक रूप से किसी भी किराने या जनरल स्टोर और कई स्वास्थ्य और नैदानिक दुकानों में भी पाया जाता है.
  • यह आयुर्वेदिक औषधि दर्द और कब्ज के लिए बहुत उपयोगी है. 
  • इसे कोई भी सुरक्षित रूप से सेवन कर सकता है.

काटिवस्ती

  • काटिवस्ती एक चमत्कारी आयुर्वेदिक उपचार है जो निचले हिस्से और रीढ़ की हड्डी से जुड़ी विभिन्न बीमारियों के लिए बहुत प्रभावी है.
  • इस उपचार में विशेष विशेष रूप से तैयार गर्म औषधीय तेल का प्रति धारण कमर पर या रीढ़ की हड्डी एक निश्चित अवधि के लिए किया जाता है, जिसमे सभी प्रकार के बैकपैन, कटिस्नायुशूल, स्पोंडिलोसिस और डिस्क प्रोलैप्स और रीढ़ की हड्डी के विघटन को ठीक करता है.

कोल्ड / हीट थेरेपी

  • कोल्ड थेरेपी सूजन, मांसपेशियों की चक्कर और दर्द को कम करने में मदद कर सकती है.
  • मस्तिष्क या तनाव के तुरंत बाद शीत चिकित्सा की सिफारिश की जा सकती है.
  • आइस पैक, बर्फ के क्यूब, आइस टॉवल / संपीड़न या ठंडे पानी से स्नान करें.

पोस्चर ठीक करें

  • कमर में दर्द के अधिकतर कारणों में से एक खराब पोस्चर होता है.
  • हम में से अधिकतर लोग अपना समय बैठकर निकालते है जो बहुत ज्यादा हानिकारक होता है.
  • इसे अपने शरीर के सही पोस्चर से काफी कम किया जा सकता है.
  • कुर्सी पर सही तरीके से बैठने का मतलब होता है कि आपकी स्पाइन की हड्डियाँ सही तरीके से लाइन अप हो, जिससे कोई इंजरी का अंदेशा न रहे.
  • अपने पैरों को फ्लोर पर सीधा सामने की ओर रखें.
  • आपको ऑनलाइन ऐसी काफी सारी एप्स मिल जाएंगी जो आपके पोस्चर को बेहतर करने में मदद कर सकती है.

सोने के तरीके में बदलाव

  • कुछ रात फ्लोर पर तकीये को अपने पैरो के नीचे लगाकर सोने से लाभ मिलता है.
  • इसके अलावा तकीये को घुटनों के बीच लगाकर मांसपेशियों को रिलैक्स करने में मदद मिलती है.
  • पेट के ऊपर सोना हमारी कमर के लिए बेकार होता है.

डॉक्टर से कब मिलें 

जब कमर में दर्द इतना बढ़ जाए कि घरेलू नुस्खों से कोई असर न पढ़े तो ऐसे में निम्न स्थितियों में डॉक्टर से मिलना चाहिए.

  • दर्द के साथ साथ कमजोरी, हाथ पैरो का सुन्न होना, टिंगलिंग आदि.
  • दर्द के कारण नींद न ले पाना
  • दर्द का 6 हफ्तों से अधिक रहना
  • घरेलू नुस्खों के बाद दर्द बहुत अधिक हो जाना
  • कमर के साथ साथ पेट में दर्द

जबकि गंभीर दर्द होने पर आपको डॉक्टर द्वारा लिखी गई पेनकिलर दवाओं की जरूरत पड़ सकती है. इसके अलावा अगर कमर दर्द के कारण आपकी रोजाना की लाइफ में परेशानी होने लगी है तो डॉक्टर से सलाह लेना सही रहता है. जिससे वह आपकी कंडीशन के आधार पर उचित उपचार उपलब्ध करा सके.