इस लेख में आप जानेंगे विटामिन-के रिच फ़ूड्स के बारे में –

विटामिन-के रिच फ़ूड्स – vitamin k rich foods

  • काले
  • हरी सेम
  • हार्ड चीज
  • सरसों का साग
  • किवी
  • मटर
  • कॉलार्ड ग्रीन
  • सोयाबिन तेल
  • पालक
  • एवोकाडो
  • ब्रोकली
  • सॉफ्ट चीज
  • ब्रसल स्प्राउट्स

विटामिन-के रिच सब्जियां

  • काले
  • सरसो का साग
  • पत्तागोभी
  • ब्रोकली
  • कॉलार्ड ग्रीन
  • ब्रसल स्प्राउट्स
  • पालक

विटामिन-के रिच फल

  • किवी
  • एवोकाडो
  • आलूबुखारा
  • अनार
  • काले शहतूत
  • ब्लूबेरी
  • टमाटर
  • अंगूर
  • अंजीर

विटामिन-के रिच नट्स और दाल

  • हरी सेम
  • वालनट्स
  • सोयाबीन
  • हेजलनट्स
  • काजू
  • राजमा
  • चिलगोजा
  • पेकान
  • हरी मटर

विटामिन-के

  • विटामिन-के कंपाउंड का ग्रुप है जो दो ग्रुप में होता है – विटामिन-के1 और विटामिन-के2.
  • इसका विटामिन-के1 प्रकार सबसे आम है जो प्लांट सोर्स से प्राप्त किया जा सकता है.
  • जबकि विटामिन-के2 जानवरों वाले फूड्स से प्राप्त किया जा सकता है.

निम्न फूड्स में रोजाना विटामिन-के की मात्रा –

  • काले – प्रति 100 ग्राम 817 एमसीजी
  • वालनट्स – प्रति 100 ग्राम 2.7 एमसीजी
  • हरी सेम – प्रति 100 ग्राम 48 एमसीजी
  • आलूबुखारा – प्रति 100 ग्राम 60 एमसीजी
  • हार्ड चीज – प्रति 100 ग्राम 87 एमसीजी
  • अनार – प्रति 100 ग्राम 16 एमसीजी
  • सरसों का साग – प्रति 100 ग्राम 593 एमसीजी
  • ब्लैकबेरी – प्रति 100 ग्राम 20 एमसीजी
  • किवी – प्रति 100 ग्राम 40 एमसीजी
  • हेजलनट्स – प्रति 100 ग्राम 14 एमसीजी
  • मटर – प्रति 100 ग्राम 26 एमसीजी
  • अंगूर – प्रति 100 ग्राम 15 एमसीजी
  • कॉलार्ड ग्रीन – प्रति 100 ग्राम 407 एमसीजी
  • सोयाबीन तेल – प्रति 100 ग्राम 184 एमसीजी
  • टमाटर – प्रति 100 ग्राम 43 एमसीजी
  • राजमा – प्रति 100 ग्राम 8.4 एमसीजी
  • पालक – प्रति 100 ग्राम 483 एमसीजी
  • अंजीर – प्रति 100 ग्राम 16 एमसीजी
  • एवोकाडो – प्रति 100 ग्राम 21 एमसीजी
  • ब्लूबेरी – प्रति 100 ग्राम 19 एमसीजी
  • ब्रोकली – प्रति 100 ग्राम 141 एमसीजी
  • काजू – प्रति 100 ग्राम 34 एमसीजी
  • सॉफ्ट चीज – प्रति 100 ग्राम 59 एमसीजी
  • ब्रसल स्प्राउट्स – प्रति 100 ग्राम 140 एमसीजी

अंत में

हमारे शरीर के लिए जरूरी पोषक तत्वों में से एक विटामिन-के है जो ब्लड क्लोटिंग, हार्ट हेल्थ और हड्डियों में अहम भूमिका निभाते है. (जानें – पनीर के फायदे और नुकसान)

विटामिन-के की कमी काफी रेयर होती है जो समय के साथ सेहत पर असर डालती है. सही से सेवन न करने पर ब्लीडिंग, कमजोर हड्डियां और हार्ट रोग का रिस्क विकसित हो सकता है. इसलिए ऊपर बताई गई लिस्ट वाले फ़ूड्स खाने से लाभ मिल सकता है.

References –

 

Share: