Select Page

सेक्स कितनी देर (सेक्स टाइम) तक चलना चाहिए – how long should sex last in hindi

सेक्स कितनी देर (सेक्स टाइम) तक चलना चाहिए – how long should sex last in hindi

एवरेज सेक्स टाइम कितना होता है – what is the average duration of sex in hindi

  • अध्ययन के अनुसार, वेजाइनल सेक्स की बात करें तो यह 3 से 7 मिनट तक चलता है.
  • जबकि 1 से 2 मिनट तक चलने वाले वेजाइनल सेक्स को “बहुत छोटा” माना जाता है.
  • वहीं 10 से 30 मिनट तक चलने वाले वेजाइनल सेक्स को “बहुत बड़ा” माना जाता है.
  • जबकि इसका एवरेज टाइम 7 से 13 मिनट के आसपास रहता है.

ध्यान रहें कि यह स्टडी सिर्फ वेजाइना में पेनिस के टाइम को लेकर की गई है. इसमें फोरप्ले का समय नही जोड़ा गया है.

एवरेज सेक्स टाइम आपकी सेक्स समझ पर निर्भर करता है

  • अधिकतर अध्ययन पेनिस के वेजाइना में जाने के बाद होने वाले स्खलन के समय के बारे में बताती है.
  • वेजाइना में जाने के बाद पेनिस कितनी देर बाद स्खलित हुआ उसे सेक्स टाइम कहा जाता है.
  • लेकिन हर कोई सेक्स को इसी तरह नही समझता है.
  • कुछ लोगों को मानना है कि जब दोनों पार्टनर संतुष्ट (क्लाइमैक्स) हो जाते है तो उसे सेक्स माना जाता है.
  • हालांकि क्लाइमैक्स को छूने, ओरल सेक्स, वेजाइनल सेक्स, एनल सेक्स या इनके कॉम्बीनेशन के साथ पहुँचा जा सकता है.
  • अगर आपके अनुसार, वेजाइना में पेनिस डालना और अंदर बाहर करना ही सेक्स है तो यह सिर्फ कुछ मिनटों तक ही चल सकता है.
  • वेजाइनल सेक्स के लिए जरूरी नही कि आपको पेनिस वाले पार्टनर की ही जरूरत पड़े.
  • साथ ही आपको यह भी पता होना चाहिए कि पेनिस को गुदा में डालकर सेक्स करना जिसे एनल सेक्स कहते है और वेजाइनल सेक्स एक जैसे नही होते है.
  • हालांकि, एवरेज टाइम को लेकर अभी और भी अधिक अध्ययनों की जरूरत है.

सेक्स के दौरान अपनी फैंटसी पता होना जरूरी है

  • सबसे जरूरी है कि सेक्स के दौरान आनंद उठाना जरूरी है, जो हर किसी की निजी पसंद हो सकती है.
  • कुछ लोगों को लंबे, अलग अलग पोजीशन वाले सेक्स पसंद है.
  • जबकि कुछ को फास्ट और एग्रेसिव सेक्स पसंद होता है.
  • सबसे जरूरी कि टाइम को न देखते हुए यह ध्यान रखना जरूरी है कि आप सेक्स से सैटिस्फाई है या नही.

फैक्टर जिनसे आप फाइट नही कर सकते 

कुछ मामलों में, बायोलॉजिकल कंडीशन के कारण आपके सेक्स टाइम पर फर्क पड़ सकता है. जिसमें –

आयु

  • सेक्स के लिए उत्तेजित होने में समय लगता है.
  • इरेक्शन (खड़ा) होना या बनाए रखना बहुत मुश्किल होता है.
  • हार्मोनल बदलाव के कारण योनि का सूखापन और लिबीदो की कमी हो सकती है.

जेनिटालिया

  • जनानंगो की शेप भी इसके कारणों में से एक है.
  • एक अध्ययन से पता चला है कि पेनिस की शेप खासकर इसके टिप हेड को ज्यादा कंपेटीटिव होना चाहिए. 
  • योनि की शेप खराब होने पर वेजाइना में पहले से मौजूद सीमन हट सकता है.
  • गहरे और धकलने वाले थ्रस्टिंग (पेनिस को वेजाइना में डालने वाला धक्का) होने पर भी सीमन हट सकती है.
  • इससे स्खलन करने वाले पार्टनर को अपने सीमन के लिए ज्यादा जगह मिल जाती है.
  • ऐसा होने पर रिप्रोडक्शन के आसार बढ़ जाते है.
  • हालांकि, स्खलन के बाद भी थस्ट्रिंग करने से आपके सीमन हट सकता है और रिप्रोडक्शन के मौके कम हो सकते है.

सेक्सुअल डिस्फंक्शन

  • समयपूर्व स्खलन इसका उदाहरण है जिसमें क्लाइमैक्स समय से पहले हो जाता है.
  • जबकि जिन लोगों को स्खलन देर से होता है उन्हें क्लाइमैक्स में ज्यादा समय लगता है.

कम सेक्स टाइम में आनंद उठाने के लिए

कुछ तकनीक की मदद से आप जल्दी ऑर्गेज़म तक पहुँच सकते है. 

खुद को छुएँ

अगर आपके पास कम समय है तो हस्तमैथुन करके ऑर्गेज़म तक पहुँचा जा सकता है. अगर आपके पार्टनर आपको टच कर रहें है तो अलग एरिया टच किए जा सकते है जिसमें –

  • महिलाओं के क्लीटोरिस को रब करना
  • महिलाओं निप्पल को प्यार से हल्के हाथों से पींच या पुल करना
  • पुरूष पार्टनर के पेनिस के आसपास हिप्स को सर्कल में मूव करना
  • प्यार से हिप्स पर मारा भी जा सकता है

साथ ही एक दूसरे को हस्तमैथुन करने में मदद कर सकते है. जिससे दोनों पार्टनर को जल्दी से क्लाइमैक्स करने में मदद मिल सकती है.

अपने पार्टनर से बात करें

  • ऑर्गेज़म को लेकर अपनी इच्छाओं को अपने पार्टनर से साझा करें.
  • जल्दी से सेक्स को खत्म करने के लिए फिनीश लाइन तक जल्दी से पहुँचने की कोशिश करें.

क्लाइमैक्स जल्दी करने वाली पोजीशन

  • अगर आपको कुछ सेक्स पोजीशन में खासा आनंद मिलता है तो जल्दी सेक्स के लिए उन्हें आज़माया जा सकता है.
  • इसमें जी स्पॉट को हिट करने वाली पोजीशन को शामिल करना चाहिए.
  • इससे पेनीट्रेशन (योनि में लिंग प्रवेश) गहरा होता है
  • साथ ही आपको और आपके पार्टनर को एक समय पर आनंद मिलता है.

ज्यादा सेक्स टाइम के लिए

अगर आप अपना सेक्स टाइम बढ़ाना चाहते है तो नीचे बताई गई तकनीक आपकी मदद कर सकती है.

स्टार्ट-स्टॉप तकनीक

  • जब आपको लगे की स्खलन होने वाला है उस समय रूक जाएं.
  • इस भावना के जाने के बाद आप और आपके पार्टनर फिर से शुरू कर सकते हैं.
  • क्लाइमैक्स के लिए ज्यादा समय की चाहत रखने वाले लोगों के लिए यह तकनीक बहुत बेहतर है.

स्क्वीज़ तकनीक

  • इस तकनीक में स्खलन की भावना होने पर पेनिस के एंड को स्क्वीज़ किया जाता है.
  • इसे कुछ सेकेंड तक स्क्वीज़ रखते है जिसके बाद स्खलन की भावन नही रहती है.
  • इसे स्खलन को कंट्रोल करने के लिए भी उपयोग किया जाता है.

अंत में

सेक्स की परिभाषा, निजी आशाएं और दोनों पार्टनरों की चाहते पर निर्भर करता है कि उन्हें ऑर्गेज़म तक पहुँचने में कितना समय लगा. इसके अलावा अगर आपको चिंता है कि आपका सेक्स टाइम बहुत कम है तो आप डॉक्टर से भी सलाह ले सकते है. वह आपकी समस्याओं और लक्षण के आधार पर उचित इलाज निर्धारित करने में मदद करेंगे. जिससे सेक्स स्टैमिना बढ़ाने में मदद मिल सकती है.