Select Page

बदहज़मी के कारण, लक्षण और घरेलू उपचार – Dyspepsia meaning in Hindi

बदहज़मी के कारण, लक्षण और घरेलू उपचार – Dyspepsia meaning in Hindi

वैसे तो हम सभी जानते है कि शरीर को ऊर्जा की खासा जरूरत होता हैं. इसी की वजह से हम लोग लारे सारे काम कर पाते है और वह ऊर्जा हमें हमारे भोजन से मिलती हैं. वहीं इंसान जो कुछ भी खाता है पेट का काम उसे पचाना होता हैं. अगर पेट की पाचन प्रकिया में समस्या आ जाए तो उसे बदहज़मी या अपच कहते हैं.

यह खुद में कोई रोग नही है, लेकिन इसके कारण कई रोग हो सकते हैं. वहीं बदहज़मी लंबे समय तक रहे तो इससे शरीर में खून बनना बंद हो सकता हैं. इसके अलावा इमयुन सिस्टम भी कमज़ोर हो सकता हैं. इसलिए आज हम आपको बताएगे बदहज़मी दूर करने के घरेलू उपचार लेकिन उससे पहले इसके कुछ लक्षण जो इस प्रकार हैं.

बदहज़मी के लक्षण

भूख न लगना
घबराहट हो जाना
खट्टी डकारें आना
छाती में तेज़ जलन होना
जी मिचलाना
जीभ पर मैल जम जाना
पेट फूलना
नींद न आना और दस्त हो जाना
कब्ज की शिकायत
पेट में गैस बनना
पेट में भारीपन महसूस होना
भोजन हज़म नहीं होना
मुंह में बार बार पानी भर जाना
पेट में हर समय हल्का-हल्का दर्द रहना
पसीना अधिक आना
साँसों में दुर्गंध

बदहज़मी के मुख्य कारण

इसके बहुत से कारण होते हे जिनमें से निम्न प्रमुख है जैसे किसी भी समय भोजन करना, भोजन में कुछ-भी खाना-पीना तथा बार-बार खाते रहने या भूख से ज्यादा भोजन खा लेना आदि के कारण, पहले से खाया हुआ भोजन ठीक से पच नहीं पाता है और दूसरा भोजन पेट में पहुँच जाता हैं. ऐसी स्थिति में पाचन तंत्र भोजन को पूर्ण रूप से पचा नही पाता है जो बदहज़मी का मुख्य कारण होता हैं.

इसके अलावा पेट के कुछ खास रोगों के कारण जैसे अल्सर, पेट के कैंसर, गैस्ट्रोपॉरेसिस (यह अक्सर मधुमेह रोगियों में होता है), पेट का संक्रमण, पुरानी अग्न्याशयशोथ, थायराइड रोग आदि के अलावा कुछ खास दवाएं भी अपच का कारण बन सकती हैं, जिनमे सबसे प्रमुख हैं. एस्पिरिन और कई अन्य दर्द निवारक गोलियाँ, एस्ट्रोजन और मौखिक गर्भ निरोधक, स्टेरॉयड दवाएं, कुछ एंटीबायोटिक दवाएं, थायराइड दवाएं आदि.

इन सभी के अलावा खराब लाइफस्टाइल भी इस समस्या के लिए जिम्मेदार होती हैं जैसे हाई फैट वाले खाद्य पदार्थ, बहुत ज्यादा भोजन या तनावपूर्ण हालात में खाना खाना, ज्यादा शराब का सेवन, सिगरेट धूम्रपान, तनाव और थकान अजीर्ण के जरूरी कारण बन जाते हैं.

बदहज़मी दूर करने के घरेलू उपचार

मिर्च, मसाले, गरिष्ठ भोजन, मछली, शराब, अंडा, आदि का सेवन न करना बदहज़मी दूर करने का अच्छा घरेलू उपचार हैं.

हरी सब्जियां जैसे – मूली, पालक, मेथी, लौकी, तोर, परवल आदि भोजन में का सेवन जरूर करें.
रेशे वाली चीजें अधिक मात्रा में खाना बदहज़मी दूर करने का अच्छा घरेलू उपचार हैं.
रात को भोजन करने के बाद थोड़ा टहलें.
धूम्रपान और शराब का सेवन न करें.

यदि अपच पुरानी है तो गेहूं की दलिया, मूंग की दाल, छाछ, पतली रोटी आदि ही लें.
दिन में कम से कम चार से पांच गिलास गुनगुना पानी जरूर पिएं. हमेशा पौष्टिक और फ्रेश भोजन ही खाएं, फ्रिज में रखा भोजन, साग-सब्जी, दाल आदि का सेवन न करें.

तनाव, नकारात्मक विचार आदि को मन में बिल्कुल भी न आने दें. यह बदहज़मी दूर करने का अच्छा घरेलू उपचार हैं क्योंकि बहुत से मामलों में देखा गया है कि अजीर्ण ज्यादा टेंशन के कारण भी होता हैं.

About The Author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *