Select Page

ढीले और लटके हुए स्तन – saggy breasts in hindi

ढीले और लटके हुए स्तन – saggy breasts in hindi

इस लेख में आप जानेंगे ढीले और लटके हुए स्तनों के कारण और इलाज, क्या इसे ठीक किया जा सकता है –

क्या ढीले और लटके हुए स्तनों को ठीक किया जा सकता है – can you fix saggy breasts in hindi

  • महिलाओं में आयु बढ़ने के साथ ब्रेस्ट के दिखने में बदलाव होने का अनुभव काफी आम है.
  • यह एक प्रकार का नैचुरल कॉस्मेटिक बदलाव होता है.
  • हालांकि, बहुत सारी महिलाओं को ढीले और लटके हुए स्तन पसंद नहीं होते है.
  • इंटरनेट पर आपको ढीले स्तन के कई कारण पता चल सकते है. 
  • जिसमें से कुछ सही और कुछ मिथक है.
  • लेकिन ऐसे बहुत सारे तरीके है जिनकी मदद से स्तनों का ढीलापन बेहतर किया जा सकता है. (जानें – ब्रेस्ट साइज़ बढ़ाने के घेरलू नुस्खे)

ढीले और लटके स्तन के क्या कारण हो सकते है – what are the causes of saggy breasts in hindi

  • उम्र बढ़ने के साथ, स्तनों में मौजूद लिगामेंट स्ट्रैच हो जाते है. इन्हें कूपर लिगामेंट भी कहा जाता है.
  • एजिंग के साथ स्किन टाइट नहीं रह पाती है जिसके कारण स्तन लटके हुए ढीले दिखने लगते है.
  • स्मोकिंग भी इसके लिए जिम्मेदार फैक्टरों में से एक है. जिसके कारण एजिंग होती है.
  • एक से अधिक बार प्रेगनेंट होना भी इसके कारणों में से एक है.
  • हर बार गर्भावस्था के साथ हार्मोनल बदलाव के कारण मिल्क डक्ट की सिकुड़न और फैलना होता है.
  • गर्भावस्था के दौरान और बाद में वजन में तेजी से बदलाव के साथ टिश्यू ढीले हो सकते है.
  • ब्रेस्ट का साइज बढ़ा होना, इसके ढीले होने के आसार बढ़ा देता है क्योंकि इसमें गुरुत्वाकर्षण फैक्टर काम करता है.
  • हालांकि, शिशु को स्तनपान कराने से ब्रेस्ट की स्थिरता पर कोई फर्क नहीं पड़ता है.
  • जबकि लोगों में गलत अवधारणा है कि स्तनपान से ब्रेस्ट टिश्यू स्ट्रैच होते है जिससे ढीलापन आता है.

इसके होने के निम्न कारण होते है –

  • गुरुत्वाकर्षण
  • एक से अधिक बार प्रेगनेंसी
  • स्मोकिंग
  • तेजी से वजन कम होना और फिर तेजी से बढ़ना
  • हाई बीएमआई
  • एजिंग
  • कोलाजेन की कमी
  • मेनोपॉज
  • ब्रेस्ट साइज बढ़ा होना
  • एस्ट्रोजन की कमी

अन्य कारण –

स्तनों का ढीलापन और लटके होने का इलाज और बचाव कैसे किया जा सकता है – how can you prevent or treat saggy breasts in hindi

स्तनों के लटके होने और ढीलेपन का रिस्क कम करने के लिए या ब्रेस्ट की स्थिरता को बेहतर करने के लिए निम्न चीज़े की जा सकती है –

स्मोकिंग बंद करें

  • इससे एजिंग की प्रक्रिया तेज हो जाती है.
  • एजिंग के कारण ब्रेस्ट लिगामेंट जैसे टिश्यू अपनी स्थिरता खो देते है.
  • स्किन को टाइट रखने वाला प्रोटीन, स्मोकिंग के कारण अपना लचीलापन खो देता है.

हेल्दी वजन बनाए रखने

  • इसके लिए आपको वजन कम करने या वजन बढ़ाने की जरूरत नहीं पड़ती है.
  • इसके लिए जरूरी है कि वजन को हेल्दी लेवल पर बनाए रखें.
  • इससे स्तनों की स्थिरता और ढीलेपन को रोका जा सकता है.

हार्मोन टेस्ट

  • मेनोपॉज के दौरान एस्ट्रोजन की कमी होना आम है.
  • इसी कारण टिश्यू में कोलेजन की कमी होती है.
  • सप्लीमेंट आदि की मदद से एस्ट्रोजन लेवल को बूस्ट किया जा सकता है. जिससे ब्रेस्ट की शेप को बेहतर किया जा सकता है.
  • इसे लेने से पहले डॉक्टर से बात जरूर करें.

चेस्ट की एक्सरसाइज

  • स्तनों में कोई मांसपेशियां नही होती है लेकिन इनके नीचे वाली मांसपेशियों का वर्कआउट किया जा सकता है.
  • इन मांसपेशियों को पेक्टोरालिस मेजर मस्ल कहा जाता है.
  • कुछ वर्कआउट इसे टारगेट करके किए जा सकते है जिससे स्तनों को टाइट दिखने में मदद मिलती है.

प्लास्टिक सर्जरी

  • कई अलग सर्जरी की मदद से ब्रेस्ट को लिफ्ट किया जा सकता है .
  • इससे स्तनों का दिखना, बेहतर होकर युवा दिखा जा सकता है.
  • यह काफी खर्च करने वाला ऑप्शन हो सकता है. (जानें – स्किन को टाइट कैसे करें)

फीटिंग वाली ब्रा पहनने

  • वर्कआउट जिसमें भी खासकर जॉगिंग के दौरान सही ब्रा पहनना जरूरी होता है.
  • एंपल सपोर्ट वाली स्पोर्ट्स ब्रा आपके स्तनों के मोशन को कम कर सकती है.
  • एक अध्ययन के अनुसार, एक्सरसाइज के चलते होने वाले ब्रेस्ट मोशन से ढीलापन और लटकना हो सकता है. हालांकि इसपर अभी भी अध्ययन जारी है.
  • इसी रिसर्च का मानना है कि वर्कआउट न करने के दौरान आपको ब्रा पहनने की जरूरत नही है.
  • ब्रा न पहनने की तुलना में गलत ब्रा साइज पहनने के ज्यादा नकारात्मक प्रभाव पड़ते है.

प्रेगनेंसी

  • यदि अपरिवर्तित स्तन उपस्थिति की आपकी इच्छा आपके परिवार को बढ़ने से अधिक है, तो गर्भवती होने से बचने पर विचार करें.
  • अध्ययन से पता चलता है कि एक महिला को जितने अधिक गर्भधारण होगें, उतनी ही अधिक स्तनों के ढीलापन और लटके होने की संभावना होती है.

अंत में

स्तनों के ढीलापन और लटके होने के काई कारण हो सकते है. स्तनपान, ब्रा पहनने या ब्रा न पहनना आदि फैक्टरों के बारे में चिंतित नहीं होना चाहिए.

सामान्य एजिंग, प्रेगनेंसी, स्मोकिंग और हार्मोन इसमें बहुत अहम फैक्टर होते है. जीवन में ब्रेस्ट की स्थिरता बेहतर करने के कई तरीके जिनकी मदद से आप फायदा उठा सकती हैं.