Select Page

नींद में पादना – farting in sleep in hindi

नींद में पादना – farting in sleep in hindi

इस लेख में आप जानेंगे नींद में पादना क्या होता है, कारण, क्या पादना और खर्राटे लेना एक जैसा है, बार बार पादना और इससे कैसे बचें –

नींद में पादना क्या है – what is farting in sleep in hindi

  • हर किसी को गैस पास होती है जिसे पादना कहते है. 
  • यह हमारे शरीर द्वारा एक सामान्य प्रक्रिया होती है जिसमें गुदा के माध्यम से पाचन तंत्र से गैस निकल जाती है.
  • पाचन तंत्र में गैस का बनना भोजन को पचाने की प्रक्रिया का हिस्सा है. 
  • यह बड़ी आंत (कोलन) में सबसे अधिक बार बनता है जब बैक्टीरिया आपकी छोटी आंत में नहीं पचने वाले कार्बोहाइड्रेट को पचाते हैं.
  • कुछ बैक्टीरिया गैस के लिए जिम्मेदार होते हैं, लेकिन बाकी शरीर से गुदा के माध्यम से एक पाद के रूप में या मुंह के माध्यम से डकार के रूप में निकल जाते हैं.
  • जब कोई व्यक्ति अतिरिक्त गैस से छुटकारा पाने में सक्षम नहीं होता है, तो उन्हें गैस्ट्रिक दर्द या गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट में गैस का निर्माण हो सकता है.
  • हाई फाइबर फ़ूड्स को गैस का सबसे आम कारण माना जाता है. इन फ़ूड्स में दाल, मूंगफली, फल, सब्जियां, पूर्ण अनाज शामिल है.
  • वैसे तो यह फ़ूड्स गैस बनाते है लेकिन पाचन तंत्र को हेल्दी रखने के लिए फाइबर बहुत जरूरी है. 
  • साथ ही इनसे ब्लड शुगर के लेवल को कंट्रोल रखने और कोलेस्ट्रोल लेवल को सामान्य रखने में मदद मिलती है.

पाचन तंत्र में गैस बनने के अन्य कारणों में –

  • सोडा या बीयर के अलावा कार्बोनेटिड ड्रिंक्स पीना
  • खाने की आदतें जिसके चलते आप हवा निगलते है
  • खाने की आदतों में भोजन जल्दी जल्दी खाना, स्ट्रा के जरिए पानी पीना, च्विंगम चबाना, कैंडी चूसना, बात करते हुए भोजन करना
  • फाइबर सप्लीमेंट
  • शुगर फ्री फ़ूड्स और ड्रिंक्स

क्या आप नींद में पाद सकते है – can you fart in sleep in hindi

  • जब आप सोते हैं तो पाद निकलना संभव है क्योंकि गैस बनने पर गुदा दबानेवाला यंत्र थोड़ा रिलैक्स करता है. 
  • इससे छोटी मात्रा में गैस अनायास ही निकल सकती है.
  • सोते समय लोगों को पता नहीं लगता कि वह पाद रहे है.
  • कभी-कभी जब आप थोड़े सचेत होते हैं, जैसे कि जब आप सो रहे होते हैं या हल्की नींद में होते हैं, तो नींद में एक बिंदु के दौरान पाद की आवाज़ आपको जगा सकती है.
  • सबसे आम तरीका लोगों को पता चलता है कि वे अपनी नींद में फार्ट कर रहे हैं यदि कोई और है, जैसे उनके साथी, उन्हें बताते हैं.

पादना और मल त्याग करना

  • क्या आपने कभी सोचा है कि लोग सोते समय पाद देते है लेकिन मल त्याग क्यों नहीं करते? ऐसा इसलिए क्योंकि गुदा दबानेवाला यंत्र रिलैक्स करता है. 
  • जिसके चलते वह थोड़ी मात्रा में गैस ही पास होने देता है.
  • अधिकतर लोग रोजाना एक ही समय पर मल त्याग करते है.
  • मल त्याग करने का समय जागने वाले घंटों में ही होता है क्योंकि शरीर का नियमित समय बन जाता है.
  • जब आप कही यात्रा कर रहे है या आपकी नींद की साईकिल में बदलाव हुआ है तो जब बाउल मूवमेंट होता है उस समय आपकी नींद खुल जाती है.

क्या पादना और खर्राटे लेना एक ही है

  • ज्यादातर लोगों को नींद में पाद नहीं आते है. 
  • इसके बजाय, यह तब होता है जब शरीर में अतिरिक्त गैस का निर्माण होता है.
  • यह बीमारी, पाचन विकार, भोजन की असहिष्णुता, तनाव, खाने की आदतों में बदलाव या हार्मोनल बदलाव का परिणाम हो सकता है.
  • नींद के दौरान खर्राटे लेना ज्यादा आम है. हालांकि, खर्राटे जैसे पादना भी बहुत शोर पैदा करते हैं. लेकिन यह संबंधित व्यवहार नहीं हैं.
  • खर्राटे एक कठोर शोर है जो तब होता है जब आप साँस लेने वाली हवा में इसके प्रवाह में बाधा डालते हैं.
  • जैसे कि जब यह आपके गले में पिछले कोमल, आराम से नरम टिश्यू को स्थानांतरित करता है.
  • यह आपके पाचन तंत्र में गैस से संबंधित नहीं है. 
  • यह टिश्यू को कंपन करने और अतिरिक्त ध्वनि पैदा करने का कारण बनता है.
  • खर्राटे भी अपने साथी के लिए एक उपद्रव हो सकता है. 
  • कुछ मामलों में, यह एक गंभीर स्वास्थ्य समस्या का संकेत हो सकता है. 

खर्राटे निम्न कंडीशन से संबंधित हो सकते है –

  • वजन मोटापा होने के कारण खर्राटे आने की कंडीशन बढ़ सकती है. (जानें – बैली फैट कम करने के तरीके)
  • लिंग – महिलाओं की तुलना में पुरूष अधिक खर्राटे लेते है.
  • पीने की आदत – शराब पीने से गले की मांसपेशियां रिलैक्स हो जाती है जिससे खर्राटे का रिस्क बढ़ जाता है.
  • एनाटॉमी – माउथ का ऊपरी हिस्सा सॉफ्ट, पतला या लंबा आदि कंडीशन होने के कारण श्वसन पथ संकीर्ण हो सकता है जिसके चलते खर्राटे आते है.

बार-बार पाद आना

  • औसतन एक व्यक्ति दिन में 5 से 15 बार पादता है.
  • कुछ विशेष पाचन संबंधी समस्या वाले लोग दिन के दौरान गैस का अनुभव अधिक करते है.
  • अधिक गैस के कारण कुछ डिसऑर्डर – कब्ज, इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम, सेलिएक रोग, क्रोहन रोग, लैक्टोज असंवेदनशीलता हो सकती है.
  • हार्मोनल बदलावों के कारण भी यह हो सकता है.
  • मासिक धर्म संबंधी डिसऑर्डर के कारण भी बार बार पाद आते है.
  • गर्भवती महिलाओं को गैसे का अधिक अनुभव होता है.
  • ज्यादा फाइबर खाने वाले जैसे शाकाहारियों को गैस का अधिक अनुभव होता है.
  • फाइबर फ़ूड्स को हेल्दी माना जाता है और यह हमारी सेहत के लिए बहुत ही आवश्यक होते है.

रात को नींद में पादने से बचने के लिए क्या करें

अगर आप दिन या रात को नींद के दौरान अपने पादने को कम करना चाहते है तो कुछ लाइफ़स्टाइल बदलाव आपकी मदद कर सकते है.

  • डेयरी, तले हुए, फैटी फ़ूड्स, फाइबर के सेवन से कुछ हफ्तों के लिए बचें. लक्षण ठीक होने पर फिर से शुरू कर दें.
  • पानी अधिक पीएं.
  • रात को सोने से कुछ घंटों पहले अपना डीनर कर लें.
  • तंबाकू आदि के सेवन से बचें.

अंत में

अधिकतर मामलों में थोड़े बहुत जीवनशैली बदलावों की मदद से गैस बनने को कम किया जा सकता है. रात को सोते समय पादना सेहत के लिए अच्छा नहीं होता है. लेकिन अन्य मामलों में यह गंभीर मुद्दा है जिसका इलाज किया जाना चाहिए.

अगर आपने अचानक से नींद के दौरान पादना शुरू किया है, दिन के दौरान ज्यादा गैस बनती है, गैस के कारण दर्द का अनुभव होता है तो डॉक्टर से बात जरूर करें. इसके इलाज से गैस को कम करने के साथ जीवन की गुणवत्ता बेहतर करने में मदद मिलती है.