Select Page

ओवेरियन सिस्ट के इलाज के तरीकें – ovarian cyst treatment in hindi

कई महिलाओं में ओवेरियन सिस्ट एक आम विकास होती हैं. सिस्ट महिला ओवरीज़ में तरल पदार्थ से भरी हुई कोशिकाएं होती हैं. ज्यादातर सिस्ट हानिरहित होते हैं और कोई लक्षण नहीं दिखाते हैं.

हालांकि, कुछ सिस्ट मासिक धर्म चक्र के दौरान भारी रक्तस्राव, थकावट, मतली, उल्टी, पेट दर्द, और सेक्स के दौरान दर्द जैसे बाहरी लक्षण दिखाते हैं.

यदि आप उपरोक्त उल्लिखित असुविधाओं में से किसी एक को महसूस करते हैं, तो यह स्त्री रोग विशेषज्ञ से परामर्श करने और चेक-अप करने के लिए सबसे अच्छा विचार है. ज्यादातर सिस्ट तब तक प्रबंधनीय होते हैं जब तक कि वे बहुत गंभीर नहीं होते हैं.

वास्तव में, यह सबसे अच्छा है कि सही समय पर सिस्ट का पता लग पाता हैं और इन्हें कुशलतापूर्वक प्रबंधित किया जा सकता हैं, जब तक वे भविष्य में गंभीर समस्या नहीं बनते है.

सिस्ट की समस्या

  • ओवेरियन सिस्ट एक ऐसी समस्या है जो सभी स्त्रियों को उनके जीवनकाल में कभी न कभी जरूर होती हैं क्योंकि ओवरी के भीतर द्रव्य से भरी थैलीनुमा संरचनाएं होती हैं. 
  • पीरियड के दौरान इस थैली के आकार की एक संरचना उभरती है, जो फॉलिकल के नाम से जानी जाती हैं. 
  • इन फॉलिकल्स से एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्ट्रॉन नाम के हॉर्मोस निकलते है,
  • जो ओवरी से मैच्योर एग की निकासी में सहायक होते हैं. वहीं कुछ मामलों में पीरियड की निश्चित अवधि खत्म हो जाने के बाद भी फॉलिकल का आकार बढता जाता है जिसे ओवेरियन सिस्ट कहा जाता हैं. 
  • सिस्ट के कई कारण हो सकते हैं जैसे, आनुवंशिक प्रभाव, मोटापा, कम उम्र में पीरियड की शुरुआत, गर्भधारण में अक्षमता तथा हॉर्मोन्स का असंतुलन आदि.

सिस्ट का प्रबंधन

  • अक्सर, डॉक्टर ‘सतर्क प्रतीक्षा’ का इंतजार करते हैं.
  • कभी-कभी, कुछ महीनों में ओवेरियन सिस्ट गायब हो जाते हैं.
  • सिस्ट की प्रगति को देखने के लिए रक्त परीक्षण और अल्ट्रासाउंड लेने की सिफारिश की जाती है.
  • यदि आप पहले ही रजोनिवृत्ति का अनुभव कर चुके हैं, तो ये परीक्षण हर चार महीने में किए जाते हैं.
  • ऐसा इसलिए है क्योंकि ऐसे मामलों में ओवेरियन कैंसर का खतरा उच्चतम होता है और सिस्ट की नियमित निगरानी आवश्यक होती है.

सिस्ट के लक्षण

  • पेट के निचले हिस्से में रुक-रुक कर दर्द और भारीपन महसूस होना सिस्ट की समस्या होना दिखाता हैं. 
  • पीरियड की अनियमितता और अधिक मात्रा में ब्लीडिंग होना सिस्ट की समस्या के लक्षण हैं. 
  • व्यायाम या सेक्स के बाद पेल्विक क्षेत्र में दर्द महसूस होना भी सिस्ट की समस्या के कारण होता हैं. 
  • जी मिचलाना और वेजाइना में दर्द होना भी सिस्ट की समस्या के लक्षण हैं.

ओवेरियन सिस्ट के घरेलू उपचार – ovarian cyst treatment home remedies in hindi

कैस्टर ऑयल पैक

  • एक कपड़ा लें और उसे मोड़कर तीन से चार परतों बना लें.
  • कपड़े में दो चम्मच कैस्टर ऑयल डालें और पेट पर रखें.
  • उसके ऊपर हॉट वॉटर बॉटल रखकर तौलिये की मदद से पेट को कवर करें.
  • इसे 30 मिनट तक लगाए रखें, ऐसा तीन महीने तक हफ्ते में तीन बार करना होगा.

एप्पल साइडर विनेगर

  • एक ग्लास गर्म पानी में एक चम्मच एप्पल साइडर विनेगर डालें.
  • एक चम्मच गुड़रस मिलाएं और हर रोज एक से दो ग्लास इस घोल को पिएं.
  • इसे पीने से सिस्ट की समस्या दूर हो जाएगी और मासिक धर्म से जुड़ी समस्याओं से भी राहत मिलती हैं.

चुकन्दर का प्रयोग

  • चुकन्दर से आपके शरीर में एसिडिटी की समस्या भी दूर होती हैं. ऐसे में आधा कप ताज़े चुकन्दर के जूस में एक चम्मच एलोविरा जेल और गुड़रस मिलाएं.
  • इसे नाश्ते से पहले, दिन में एक बार कुछ दिन तक पिएं. इससे सिस्ट की समस्या में आराम मिलता हैं.

अदरक का रस

  • अदरक शरीर में गर्माहट पैदा करता है और रूके हुए मासिकधर्म को भी शुरू कर देता है.
  • थोड़ी अदरक, एक ग्लास एप्पल जूस और एक चौथाई अन्नानास को मिलाकर जूस निकाल लें.
  • सिस्ट के खत्म हो जाने तक इसे रोज पिए या अदरक वाली चाय भी पी जा सकती हैं.

अलसी के बीज

  • अलसी के बीज में फाइबर अधिक होता है जिससे शरीर में से नुकसानदायक टॉक्सिन्स, कोलेस्ट्रॉल और अन्य लिवर को नुकसान करने वाले तत्व बाहर निकल जाते हैं.
  • रोज खाली पेट, एक चम्मच असली के बीज को पीस कर एक ग्लास गर्म पानी में पिएं.

बादाम खाएं

  • भुने हुए बादाम खाएं.
  • बादाम के तेल से पेट के आसपास की जगह पर मालिश भी कर सकते हैं.
  • बादाम के तेल में जैसमीन का तेल मिला लेने से अच्छे परिणाम मिलते हैं.

सिंकाई करें

  • पेट या निचले पेल्विक स्थान पर हॉट बॉटल से सिकाई करें.
  • ऐसा कम से कम 15 मिनट के लिए करें.
  • यह एक अच्छा सिस्ट का घरेलू उपचार है, इससे बहुत जल्दी राहत मिलती हैं.

टी ट्री ऑयल

  • इसमें जरूरी एंटीमाइक्रोबायल गुण होते है जो बैक्टीरिया, वायरस, फंग आदि को नष्ट करता है. 
  • कुछ सिस्ट, हेयर फॉलिसिल के ठीक से विकास न हो पाने के कारण होते है. 
  • इसका उपयोग करने के लिए टी ट्री ऑयल को साफ, गर्म या गर्म पानी में डाइल्यूट करें.
  • 1 आउंस पानी में 2 से 3 बूंद तेल के डाले.
  • साफ कपड़े से इसे सीधे सिस्ट पर लगाया जा सकता है.

एलोवेरा

  • इसमें मौजूद एंटी-इंफ्लामेटरी गुण सिस्ट के दर्द और जलन आदि में राहत प्रदान करते है.
  • इसका इस्तेमाल करने के लिए प्योर एलोवेरा जेल, क्रीम या लोशन प्रयोग किए जा सकते है.
  • इन लोशन को सीधे सिस्ट पर लगाकर लाभ उठाया जा सकता है.  

शहद

  • इसका उपयोग बहुत सारी चीज़ो में किया जाता है.
  • शुद्ध शहद को लेकर इसे सिस्ट पर लगाया जा सकता है.
  • सिस्ट पर शहद को कुछ समय के लिए लगा रहने दें.
  • जितना समय यह लगा रहेगा, उतना बेहतर प्रभाव होगा.
  • जिसके बाद शहद को साफ कर, फिर से लगा सकते है.

ओवेरियन सिस्ट का उपचार – ovarian cyst treatment in hindi

  • ओवेरियन सिस्ट का उनके पहले चरण में इलाज किया जा सकता है. यहां कुछ सबसे लोकप्रिय उपचार दिए गए हैं.
  • लैप्रोस्कोपी सबसे लोकप्रिय उपचारों में से एक है. यह सामान्य संज्ञाहरण के तहत एक सर्जरी प्रक्रिया है. 
  • पेट के एक प्रमुख छेद के त्रिज्या में काटा जाता है और वहां लैप्रोस्कोप डाला जाता है. 
  • यह डॉक्टर को आंतरिक अंगों को देखने में मदद करता है, जिसका उपयोग तब सिस्ट को हटाने के लिए किया जाता है. 
  • यह विधि कम दर्दनाक है और त्वरित पुनर्प्राप्ति का समय है.
  • लैप्रोटोमी एक अन्य विधि है जो एक सिस्ट को हटाने के लिए उपयोग की जाती है. 
  • यदि सिस्ट बड़ी होती है, तो शरीर में सिस्ट तक पहुंचने के लिए शरीर में एक भी बड़ा छेद बनाया जाता है. 
  • कभी-कभी, सिस्ट और अंडाशय को हटा दिया जाता है और आगे लैब टेस्ट के लिए भेजा जाता है. 
  • यह निरीक्षण सैंपल कैंसरजन्य हैं या नहीं का पता लगाने के लिए किया जाता है. 
  • यह प्रक्रिया पिछले प्रक्रिया की तुलना में अधिक जटिल है और रोगी को कुछ दिनों तक अस्पताल में रहने की आवश्यकता हो सकती है.
  • यदि आपके पास कैंसर संबंधी सिस्ट है, तो आपके प्रजनन भाग हटा दिया जाता है, जिससे आप ज़िन्दगी भर के लिए बांझपन का सामना करना पड़ता है.

अंत में

ओवेरियन सिस्ट बहुत अधिक इलाज योग्य है और बेहतर और तेज़ उपचार के लिए पहले चरण में पता लगाया जा सकता है. इस प्रकार, किसी भी परेशान लक्षणों के मामले में नियमित जांच-पड़ताल और रिपोर्ट के लिए जाना सबसे अच्छा है.

जबकि कुछ घरेलू उपचार का उपयोग कर लाभ उठाया जा सकता है लेकिन घरेलू उपचार में आराम न मिलने पर असहजता, जलन, असमान्य लक्षण आदि हो सकते है. सिस्ट को हटाने का एक तरीका है डॉक्टर से सलाह लेना और बताए गए उपचार का पालन करना हैं.