अखरोट न सिर्फ खाने में टेस्टी होता है बल्कि इसमें हेल्दी फैट, फाइबर, विटामिन और मिनरल मौजूद होते है. यह हमारी हेल्थ को कई तरीकों से लाभ प्रदान करता है. आज इस लेख में आप जानेंगे अखरोट खाने के फायदों के बारे में जिनको साइंस भी मानता है –

अखरोट के फायदे – benefits of walnuts

आंतों के लिए अच्छा

  • अध्ययनों के अनुसार, अगर आपकी आंते हेल्दी बैक्टीरिया और अन्य माइक्रोब्स में अच्छी है, तो आपको हेल्दी आंत और स्वास्थ में मदद मिलती है.
  • वहीं अनहेल्दी बैक्टीरिया होने पर इंफ्लामेशन और आंत समेत शरीर के रोग का रिस्क रहता है.
  • साथ ही मोटापा, कैंसर, हार्ट रोग का रिस्क भी बढ़ जाता है.
  • आप क्या खाते है उसका आंतों में बैक्टीरिया के बनने पर प्रभाव पड़ता है.

डायबिटीज का रिस्क कम करने

  • ज्यादा वजन होने से हाई ब्लड शुगर और डायबिटीज का रिस्क बढ़ जाता है.
  • अखरोट खाने से ब्लड शुगर और वजन कंट्रोल करने में मदद करती है.

एंटीऑक्सीडेंट में पूर्ण

  • दूसरे मेवों की तुलना में अखरोट में एंटीऑक्सीडेंट की मात्रा अधिक होती है.
  • यह मात्रा विटामिन ई, मेलाटॉनिन और पॉलीफेनॉल्स से मिलती है जो अखरोट की स्किन में अधिक होते है.
  • छोटे अध्ययनों में देखा गया है कि अखरोट खाने से खराब कोलेस्ट्रोल के लेवल को कम करने और ऑक्सीडेटिव क्षति में कमी देखने को मिली है.
  • खराब कोलेस्ट्रोल के कारण आर्टरिज ब्लॉक होने का रिस्क रहता है.

ब्लड प्रेशर कम करने

  • हाई ब्लड प्रेशर को हार्ट रोग और स्ट्रोक का मुख्य रिस्क फैक्टर माना जाता है.
  • कुछ अध्ययनों के अनुसार, अखरोट खाने से ब्लड प्रेशर कम करने में मदद करते है.
  • इसके अलावा हाई ब्लड प्रेशर की समस्या और तनाव वाले हेल्दी लोगों में भी यह मददगार होता है.
  • शोधकर्ताओं का मानना है कि नट्स हृदय-स्वस्थ आहार के रक्तचाप के लाभों को थोड़ा सुधार कर सकते हैं.
  • यह महत्वपूर्ण है, क्योंकि रक्तचाप के छोटे अंतर से आपके हृदय रोग से मृत्यु के जोखिम पर बड़ा प्रभाव पड़ता है.

कुछ कैंसर के रिस्क को कम करने

  • कई तरह के अध्ययनों में जानने को मिला है कि अखरोट खाने से कुछ कैंसर का रिस्क कम हो जाता है.
  • रिस्क कम होने वाले कैंसर में ब्रेस्ट कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर और कोलोरेक्टल कैंसर होता है.
  • अखरोट में मौजूद तत्वों में एंटी इंफ्लामेटरी गुण होते है जिनको खाने से कोलरेक्टल कैंसर का रिस्क कम होता है.
  • इसमें मौजूद तत्वों में हार्मोन जैसे गुण होते है जो शरीर में हार्मोन रिसेप्टर को ब्लॉक करते है.
  • जिससे हार्मोन संबंधी कैंसर जैसे स्तन और प्रोस्टेट कैंसर के रिस्क को कम करते है.
  • हालांकि इसपर अभी अधिक अध्ययनों की जरूरत है.

एजिंग

  • आयु बढ़ने के साथ ही शारीरिक क्रिया को सक्रिय रखना जरूरी होता है.
  • इसके लिए जरूरी होता ही कि अच्छी आदतों को अपनाया जाए.
  • एक अध्ययन में देखने को मिला है कि अखरोट उन फ़ूड्स में से है जो हेल्दी डाइट में शामिल होते है.
  • यह कैलोरी में हाई होते है लेकिन इनमें जरूरी विटामिन, मिनरल, फाइबर, फैट और प्लांट कंपाउंड मौजूद होते है.
  • आयु बढ़ने के साथ यह सभी तत्व फंक्शन में मदद करते है.

ओमेगा-3 फैटी एसिड

  • किसी दूसरे नट्स की तुलना में अखरोट में ओमेगा-3 की मात्रा ज्यादा होती है.
  • प्रति 28 ग्राम अखरोट में 2.5 ग्राम ओमेगा-3 मौजूद होता है.
  • प्लांट से मिलने वाले ओमेगा-3 को अल्फा-लिनोलेनिक एसिड होता है जिसको डाइट में लेना बहुत जरूरी है.
  • साथ ही इसके सेवन से हार्ट रोग के रिस्क को कम करने में मदद मिलती है.

वजन कंट्रोल करने

  • यह कैलोरी से भरपूर होते है जिससे इनका सेवन करने से भूख को कंट्रोल करने में मदद मिलती है.
  • छोटे अध्ययनों में इसके लाभ देखने को मिलें है.

दिमाग के फंक्शन के लिए

  • रिसर्च के अनुसार अखरोट को दिमाग के लिए अच्छा माना जाता है.
  • जानवरों और टेस्ट ट्यूब स्टडी में देखने को मिला है कि अखरोट में पॉलीअनसैचुरेटिड फैट, पॉलीफेनल्स और विटामिन ई होते है.
  • यह सारे तत्व दिमाग को फ्री रेडिकल्स के कारण होने वाली क्षति और इंफ्लामेशन से बचाते है.
  • अवलोकन अध्ययनों में देखने को मिला है कि जो अधिक आयु वाले लोग अखरोट खाते है उनका दिमाग का फंक्शन बेहतर हो जाता है.
  • जिसमें बेहतर याद्दाश्त, मानसिक लचीलापन और तेज़ी से समझना शामिल है.

इंफ्लामेशन कम करने

  • इंफ्लामेशन को कई रोगो की जड़ माना जाता है जिसमें हार्ट रोग, टाइप 2 डायबिटीज, अल्जाइमर रोग, कैंसर आदि होते है.
  • इन रोगों के होने का कारण ऑक्सीडेटिव तनाव होता है.
  • अखरोट में मौजूद पॉलीफेनॉल्स ऑक्सीडेटिव तनाव और इंफ्लामेशन से लड़ने में मदद करती है.
  • इसके अलावा अखरोट में मौजूद ओमेगा-3, मैग्नीशियम, अमिनो एसिड जैसे तत्व इंफ्लामेशन को कम करते है.

पुरूष प्रजनन क्षमता में सहायक

  • हाई प्रोसेस्ड फ़ूड्स, शुगर और रिफाइंड अनाज का सेवन स्पर्म फंक्शन की कमी से जुड़ा होता है.
  • जबकि अखरोट खाने से स्पर्म की हेल्थ और पुरूष प्रजनन क्षमता बेहतर होती है.
  • जनवरों पर हुए स्टडी की माने तो अखरोट के सेवन से फ्री रेडिकल्स के कारण होने वाले नुकसान से स्पर्म का बचाव होता है.

अंत में

अखरोट एक असाधारण पौष्टिक मेवा है. इनमें हाई एंटीऑक्सिडेंट गतिविधि होती है और किसी भी अन्य सामान्य अखरोट की तुलना में काफी अधिक स्वस्थ ओमेगा-3 फैट है.

यह समृद्ध पोषक तत्व अखरोट से जुड़े कई स्वास्थ्य लाभों में योगदान देता है जैसे कि सूजन को कम करना और हृदय रोग के जोखिम कारकों में सुधार शामिल है.

वैज्ञानिक अभी भी कई तरीकों को उजागर कर रहे हैं जो कि पॉलीफेनोल्स सहित फाइबर और प्लांट कंपाउंड के अखरोट, आपके आंत माइक्रोबायोटा के साथ इंटरैक्ट कर सकते हैं और आपके स्वास्थ्य में योगदान कर सकते हैं.

यह संभावना है कि आप आने वाले वर्षों में अखरोट के बारे में अधिक सुनते रहेंगे क्योंकि अधिक अध्ययन उनके लाभकारी स्वास्थ्य प्रभावों पर शोध करेंगे.

References –

 

Share: