Select Page

वायरल रोग के बारे में सबकुछ – viral diseases in hindi

वायरल रोग के बारे में सबकुछ – viral diseases in hindi

इस लेख में आप जानेंगे वायरल रोग क्या होता है, इसके प्रकार, लक्षण, इलाज और बचाव – 

वायरल रोग क्या होते है – what are viral diseases in hindi

  • वायरस बहुत छोटे संक्रामक एजेंट होते हैं. 
  • यह आनुवंशिक सामग्री के टुकड़े से बने होते हैं, जैसे कि डीएनए या आरएनए, जो प्रोटीन के एक कोट में संलग्न है.
  • वायरस आपके शरीर में कोशिकाओं पर आक्रमण करते हैं और उन कोशिकाओं के घटकों का उपयोग करते हैं जो उन्हें गुणा करने में मदद करते हैं. 
  • यह प्रक्रिया अक्सर संक्रमित कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाती है या नष्ट कर देती है.
  • वायरल बीमारी किसी भी बीमारी या स्वास्थ्य की स्थिति है जो वायरस के कारण होती है.

यह हमेशा जानलेवा नहीं होते है

  • सभी वायरल रोग संक्रामक नहीं होते हैं. 
  • इसका मतलब है कि वे हमेशा एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नहीं फैलते हैं.
  • लेकिन काफी सारे वायरल एक से दूसरे व्यक्ति में फैल सकते है. 
  • ऐसे फैलने वाले संक्रामक वायरल रोगों के सामान्य उदाहरणों में फ्लू, सामान्य सर्दी, एचआईवी और हर्पस शामिल हैं.
  • अन्य प्रकार के वायरल रोग अन्य माध्यमों से फैलते हैं, जैसे कि संक्रमित कीट का काटना आदि.

वायरल रोगों के प्रकार – what are the types of viral diseases in hindi

सांस संबंधी वायरल रोग

  • श्वसन वायरल रोग संक्रामक होते हैं और आपके श्वसन पथ के ऊपरी या निचले हिस्सों को प्रभावित करते हैं.
  • सांस संबंधी वायरल रोगों में फ्लू, सर्दी खांसी, सार्स आदि शामिल है.
  • श्वसन वायरस खांसी या छींकने के माध्यम से उत्पन्न बूंदों से फैलते हैं.
  • यदि कोई वायरल बीमारी से पीड़ित व्यक्ति आस-पास खांसता या छींकता है और आप इन बूंदों को सांस के जरिए ले लेते हैं, तो आपको यह बीमारी हो सकती है.
  • ये वायरस दूषित वस्तुओं के माध्यम जैसे कि दरवाजे के हैंडल या कुंडी, समेत और व्यक्तिगत आइटम आदि से भी फैल सकते हैं.
  • यदि आप इनमें से किसी एक वस्तु को छूते हैं और फिर अपनी नाक या आंखों को स्पर्श करते हैं, तो आप एक बीमारी विकसित कर सकते हैं.

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल वायरल रोग

  • गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल वायरल रोग आपके पाचन तंत्र को प्रभावित करता हैं.
  • वायरस जो उनके कारण होते हैं वे संक्रामक होते हैं और आमतौर पर गैस्ट्रोएंटेराइटिस नामक एक कंडीशन पैदा करते हैं, जिसे पेट फ्लू कहा जाता है.
  • इसके उदाहरणों में एस्ट्रोवायरस इंफेक्शन, रोटावायरस इंफेक्शन, नोरोवायरस इंफेक्शन आदि शामिल है.
  • मल त्याग के दौरान गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल वायरस मल में बहाया जाता है.
  • भोजन या पानी जो मल द्वारा दूषित हो गया है, वायरस को दूसरों में फैला सकता है.
  • आप किसी संक्रमित व्यक्ति के साथ बर्तन या व्यक्तिगत वस्तुओं को साझा करने से भी वायरस प्राप्त कर सकते हैं.

त्वचा संबंधी वायरल रोग

  • इसके कारण स्किन रैश हो सकते है.
  • इस तरह के वायरस खांसने या छींकने से एक से दूसरे व्यक्ति में फैल सकता है.
  • चिकनपॉक्स और स्मालपॉक्स स्किन के छालों से निकले मवाद के संपर्क में आने के कारण हो सकते है.
  • चिकनगुनिया वायरस एक से दूसरे व्यक्ति में मच्छर से काटने के कारण फैल सकता है.
  • स्किन पर कोई कटाव या दाने आदि लंबे समय तक रह सकते है.
  • यह वायरस त्वचा पर फैल जाते है और इंफेक्टिड स्थान को छूने से फैल सकते है.

हेपटिक वायरल रोग

  • इसके कारण लिवर की इंफ्लामेशन हो सकती है जिसे वायरल हेपेटाइटिस कहा जाता है.
  • वायरल हेपेटाइटिस के सबसे आम प्रकारों में हेपेटाइटिस ए, बी और सी शामिल है.
  • हेपेटाइटिस बी और सी एक से दूसरे व्यक्ति में शारीरिक फ्लूइड के जरिए फैल जाता है.
  • ब्लड के संपर्क में आने वाले आइटम जैसे सुई या रेजर से भी वायरस फैल सकता है.
  • यह सेक्सुअल कॉन्टैक्ट से भी फैल सकता है.
  • संक्रमित व्यक्ति के कारण हुए दूषित पानी को पीने या भोजन खाने से यह हो सकता है. 

सर्कुलेट्री सिस्टम को प्रभावित करने वाले रोग

  • इस तरह के इंफेक्शन गंभीर कंडीशन के कारण सर्कुलेट्री सिस्टम को नुकसान पहुँचा सकते है.
  • इस तरह के रोगों में ईबोला, येलो फीवर, डेंगू, लासा फीवर आदि शामिल है.
  • डेंगू और येलो फीवर मच्छरों के काटने के कारण होते है.
  • इसके अलावा ईबोला, संक्रमित व्यक्ति के खून या शारीरिक फ्लूइड के संपर्क में आने के कारण हो सकता है.

न्यूरोलॉजिकल वायरल रोग

  • कुछ वायरस दिमाग और इसके आसपास के टिश्यू को नुकसान पहुँचा सकते है.
  • इस तरह के रोगों में पोलियो, रैबीज, मेनिंगाइटिस आदि शामिल है.
  • कई न्यूरोलॉजिक वायरस संक्रमित मच्छर या कीट के कारण फैल सकते है.
  • पोलियो और एंटरोवायरस किसी से ज्यादा करीबी संपर्क से फैल सकते है.
  • दूषित पदार्थ भी इस तरह के वायरस को फैला सकते है.

वायरल रोगों के लक्षण क्या होते है – what are the symptoms of viral diseases in hindi

सांस संबंधी वायरल रोग

  • बुखार
  • शरीर में ऐंठन
  • छींकना
  • खांसना
  • नाक बहना
  • बंद नाक

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल वायरल रोग

  • उल्टी
  • डायरिया
  • पेट में ऐंठन

त्वचा संबंधी वायरल रोग

  • रूबेला
  • चिकनगुनिया
  • मीस्लस
  • चिकनपॉक्स
  • रोसेला 
  • मस्से
  • ओरल हर्पस
  • जेनिटल हर्पस

हेपटिक वायरल रोग

  • हेपेटाइटिस ए
  • हेपेटाइटिस बी
  • हेपेटाइटिस सी
  • हेपेटाइटिस डी
  • हेपेटाइटिस ई

सर्कुलेट्री सिस्टम को प्रभावित करने वाले रोग

  • शारीरिक ऐंठन
  • मुंह या कान से खून आना
  • स्किन के अंदर ब्लीडिंग
  • कमजोरी
  • तेज बुखार
  • अंदरूनी अंगों की ब्लीडिंग

न्यूरोलॉजिकल वायरल रोग

  • दौरे पड़ना
  • चक्कर आना
  • बुखार
  • भ्रम
  • संतुलन समस्या

वायरल रोगों का इलाज क्या है – what are the treatment of viral diseases in hindi

सांस संबंधी वायरल रोग

  • श्वसन संबंधी वायरल रोग आमतौर पर अपने आप ठीक हो जाते हैं. 
  • लेकिन नाक के डीकॉजेस्टेंट, कफ सप्रेसेंट और दर्द निवारक सहित ओवर-द-काउंटर (ओटीसी) दवाएं लक्षणों को कम करने में मदद कर सकती हैं.

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल वायरल रोग

  • गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल वायरल रोगों के लिए कोई उपचार नहीं है. 
  • कई मामलों में, वे एक या दो दिन में अपने दम पर हल निकाल लेते हैं.
  • इस बीच, दस्त या उल्टी के कारण हुई पानी की कमी को दूर करने के लिए बहुत सारे तरल पदार्थ पिएं.

त्वचा संबंधी वायरल रोग

  • वायरल रोग के लक्षणों के आधार पर इलाज किया जाता है.
  • बुखार को कम करने वाली दवाएं इसमें दी जाती है.
  • मस्से आदि के कारण होने वाले दाने अपने आप ठीक हो जाते है.
  • इन्हें थेरेपी की जरिए भी हटाया जा सकता है.
  • हर्पस का कोई इलाज नहीं है लेकिन एंटीवायरल दवाएं इन्हें कम कर सकती है.

हेपटिक वायरल रोग

  • हेपेटाइटिस बी, सी और डी का इलाज लक्षणों को फोकस करके किया जाता है.
  • कुछ मामलों में डॉक्टर एंटीवायरल दवाएं दे सकते है.
  • हेपेटाइटिस ए और ई के इलाज में आराम करना, खूब पानी पीना और शराब से बचना शामिल है.

सर्कुलेट्री सिस्टम को प्रभावित करने वाले रोग

  • इस रोग के होने पर अपने शरीर में पानी की कमी नहीं होने देनी चाहिए.
  • कुछ लोगों को इंजेक्शन के जरिए फ्लूइड दिए जाते है.
  • खुद के शरीर में पानी की कमी नहीं होने देना और इलैक्ट्रोलाइट संतुलन रखना बहुत जरूरी है.

न्यूरोलॉजिकल वायरल रोग

  • पूरा आराम करना और शरीर में पानी की कमी न होने देने के अलावा ओटीसी दवाएं दी जाती है.
  • एंटी इंफ्लामेटरी दवाएं दर्द या सिरदर्द में मदद कर सकते है.
  • रैबीज के मामलों में इंजेक्शन के शॉट दिए जाते है.

वायरल रोगों से बचाव कैसे किया जा सकता है – what are the prevention of viral diseases in hindi

सांस संबंधी वायरल रोग

  • श्वसन संबंधी वायरल बीमारियों से बचने का सबसे अच्छा तरीका अच्छी व्यक्तिगत स्वच्छता का अभ्यास करना है.
  • खांसने या छींकने पर अपने हाथों को अक्सर धोएं, अपने मुंह को ढकें और सांस संबंधी कंडीशन के लक्षण दिखने वाले लोगों के साथ अपनी बातचीत को सीमित करें.

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल वायरल रोग

  • खासकर बाथरूम का उपयोग करने के बाद आप अपने हाथों को अक्सर धोने से गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल वायरल रोगों को रोक सकते हैं.
  • दूषित सतहों को पोंछने और व्यक्तिगत वस्तुओं को साझा नहीं करने या एक बर्तन में खाने से बचने से भी मदद मिल सकती है.

त्वचा संबंधी वायरल रोग

  • रूबेला, चिकनपॉक्स आदि का बचाव वैक्सीनेशन के जरिए किया जा सकता है.
  • चिकनगुनिया से बचने के लिए मच्छरों के काटने से बचें.
  • अच्छी स्वच्छता बनाए रखें जैसे पर्सनल आइटम शेयर न करें.
  • दाने आदि को छुने से बचें, जिससे वायरल संपर्क में आने का रिस्क कम हो सकता है.

हेपटिक वायरल रोग

  • हेपेटाइटिस ए और बी के लिए वैक्सीन मौजूद है.
  • इससे बचने के अन्य तरीके एक बार इस्तेमाल की जा चुकी सुई या रेजर का दोबारा उपयोग नहीं करना है.
  • सुरक्षित सेक्स करें और शराब से बचना चाहिए.
  • दूषित भोजन या पानी पीने से बचा जाना चाहिए.

सर्कुलेट्री सिस्टम को प्रभावित करने वाले रोग

  • वायरस से संक्रमित लोगों के आसपास पूरी सावधानी बरते.
  • सावधानी में ग्लवस, गिलास, चेहरे की शिल्ड शामिल है.
  • मच्छरों समेत कीड़ों के काटने से बचें.
  • कुड़ा आदि को ठीक से ढ़क कर रखें.

न्यूरोलॉजिकल वायरल रोग

  • पोलियो और मल्प वायरस के लिए वैक्सीन मौजूद है.
  • अच्छी हाइजिन, इंफेक्टिड रोगी से उचित दूरी जरूरी है.
  • रैबीज के मामलों में आसपास के जानवरों को वैक्सीन लगवाकर रखें.

अंत में

कई वायरल बीमारियां हैं. कुछ, जैसे कि सामान्य सर्दी या पेट फ्लू मामूली होते हैं और कुछ ही दिनों में अपने आप चले जाते हैं. हालांकि अन्य अधिक गंभीर हो सकती हैं.

बैक्टीरियल संक्रमणों के विपरीत, वायरल रोग एंटीबायोटिक दवाओं को प्रतिक्रिया नहीं देते हैं. इसके बजाय, उपचार आमतौर पर लक्षणों को मैनेज करने, भरपूर आराम और पानी की कमी नहीं होने देने के साथ इम्यून सिस्टम बूस्ट करने पर केंद्रित होता है.